ताज़ा खबर
 

वारंगल अग्निकांड: पूर्व कांग्रेसी सांसद राजैया, पत्नी व बेटा गिरफ्तार

अपनी बहू और तीन पोतों की मौत के सिलसिले में पूर्व कांग्रेस सांसद एस राजैया को उनकी पत्नी और बेटे के साथ गिरफ्तार किया गया। राजैया की बहू और उसके तीन..

Author वारंगल | November 6, 2015 12:22 AM
पूर्व कांग्रेसी सांसद एस. राजैया

अपनी बहू और तीन पोतों की मौत के सिलसिले में पूर्व कांग्रेस सांसद एस राजैया को उनकी पत्नी और बेटे के साथ गिरफ्तार किया गया। राजैया की बहू और उसके तीन बच्चों की यहां उनके आवास पर संदिग्ध हालात में हुई मौत के सिलसिले में इससे पहले उनसे, उनकी पत्नी उनके बेटे से गुरुवार को लगातार दूसरे दिन भी पूछताछ की गई। इसके बाद इन सभी को गिरफ्तार कर लिया गया।

सहायक पुलिस आयुक्त (हनमकोंडा उप संभाग) शोबन कुमार ने बताया कि पुलिस ने घर से खाना और घटनास्थल से जली हुई वस्तुओं सहित कई चीजें इकट्ठा की हैं जिसे जांच के लिए फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला और अन्य विभागों को भेजा जाएगा। वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि राजैया की बहू एस सारिका और तीनों बच्चे सात वर्षीय अभिनव, तीन वर्षीय जुड़वां अयान और श्रीयान के शवों का पोस्टमार्टम किया जा रहा है। सारिका और उनके तीनों बच्चों की बुधवार को अग लगने से मौत हो गई थी।

वारंगल शहर के पुलिस आयुक्त जी सुधीर बाबू ने बताया कि हनमकोंडा के दो मंजिला घर की पहली मंजिल पर जिस समय यह घटना हुई, उस समय राजैया, उनकी पत्नी माधवी और बेटे अनिल कुमार वहां मौजूद थे। पुलिस ने राजैया, उनकी पत्नी और बेटे के खिलाफ खुदकुशी के लिए उकसाने का एक मामला दर्ज किया है लेकिन बताया कि इस सिलसिले में अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं की गई है। हालांकि वारंगल के एक थाने में पूछताछ के लिए उन्हें लाया गया है।

सारिका के माता-पिता की ओर से शिकायत दर्ज कराए जाने के बाद राजैया, उनकी पत्नी माधवी और बेटे अनिल कुमार के खिलाफ सुबेदारी थाना में भादंसं की धारा 498 ए (एक महिला पर पति या पति के रिश्तेदार द्वारा क्रूरता से अत्याचार), 306 (खुदकुशी के लिए उकसाना) और तीन बच्चों की मौत के लिए आपराधिक दंड संहिता की धारा 174 (संदिग्ध हालात में मौत) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

इस घटना के बाद, वारंगल में 21 नवंबर को होने वाले लोकसभा उपचुनाव के लिए कांग्रेस की ओर से उम्मीदवार बनाए गए 62 वर्षीय राजैया को हटा कर उनकी जगह पूर्व केंद्रीय मंत्री सर्वे सत्यनारायण को पार्टी का उम्मीदवार बनाया गया है। सुधीर बाबू ने पहले बताया था कि हम एफएसएल रिपोर्ट की प्रतीक्षा कर रहे हैं। एक बार एफएसएल और पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आ जाए तब हम स्पष्ट कर पाएंगे कि मौतें कैसे हुईं।

सारिका ने अप्रैल, 2014 में अपने पति और ससुराल वालों पर उत्पीड़न का आरोप लगाया था जिसके बाद राजैया, माधवी, अनिल कुमार और एक अन्य महिला के खिलाफ यहां बेगमपेट महिला थाने में एक आपराधिक मामला दर्ज किया गया था। एक मल्टीनेशनल कंपनी में साफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर कार्यरत रह चुकीं सारिका ने यह भी आरोप लगाया था कि उसके पति के विवाहेत्तर संबंध हैं। सारिका ने उस समय राजैया के घर के बाहर धरना भी दिया था।

सारिका की मां और बहन ने बुधवार को निजामाबाद जिले में अपने पैतृक आवास पर आरोप लगाया कि उसके ससुराल वालों ने उसे प्रताड़ित किया और उसकी हत्या कर दी। सारिका की बहन ने आरोप लगाया कि मेरी बहन खुदकुशी करने वाली नहीं थी… उसे प्रताड़ित किया गया और उसकी हत्या की गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App