ताज़ा खबर
 

गैस लीक कांड: FIR में कंपनी के किसी कर्मचारी का नाम नहीं, बदबूदार हवा और धुआं को ठहराया जिम्मेदार, स्टिरीन गैस का भी जिक्र नहीं

पुलिस ने एफआईआर में लिखा, “लगभग 03.30 बजे एलजी पॉलिमर कंपनी से कुछ धुआं निकला, जो बदबूदार थे, जिस कारण से पड़ोसी गाँव (प्रभावित) इससे प्रभावित हुए। बदबूदार हवा के गंध ने मानव जीवन को खतरे में डाल दिया और डर के कारण, सभी ग्रामीण घरों से भागने लग गए।

विशाखापत्तनम में एलजी केमिकल फैक्ट्री में हुआ गैस लीक। (फोटो- श्रीजन गुम्मला/ट्विटर)

आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में 7 मई को अहले सुबह से पहले एलजी पॉलिमर फैक्ट्री में स्टिरीन गैस का रिसाव होने से 11 लोगों की मौत हो गई थी। इसकी जांच के लिए राज्य सरकार ने उच्च स्तरीय जांच कमेटी का गठन किया लेकिन स्थानीय पुलिस ने गोपालपट्टनम थाने में जो एफआईआर रिपोर्ट दर्ज की है, वह चौंकाने वाली है। 7 मई को दुर्घटना के करीब पांच घंटे बाद दर्ज एफआईआर में एलजी पॉलिमर फैक्ट्री के किसी कर्मचारी का नाम नहीं है। एफआईआर में लिखा गया है कि फैक्ट्री से कुछ धुआं उठा, वहां कुछ बदबूदार हवा थी और इसी ने वहां लोगों की जिंदगी को खतरे में डाल दिया।

पुलिस ने एफआईआर में लिखा, “लगभग 03.30 बजे एलजी पॉलिमर कंपनी से कुछ धुआं निकला, जो बदबूदार थे, जिस कारण से पड़ोसी गाँव (प्रभावित) इससे प्रभावित हुए। बदबूदार हवा के गंध ने मानव जीवन को खतरे में डाल दिया और डर के कारण, सभी ग्रामीण घरों से निकलकर भागने लग गए। इस घटना में 5 व्यक्तियों की मौत हो गई और शेष लोगों को अस्पतालों में रोगियों के रूप में भर्ती कराया गया।” एफआईआर में पांच लोगों की मौत की पुष्टि हुई है लेकिन जिस वक्त एफआईआर दर्ज हुई, उस वक्त तक 10 लोगों की मौत हो चुकी थी।

इतना ही नहीं, एफआईआर में स्टिरीन गैस का उल्लेख तक नहीं है, जबकि घटना के दिन पुलिस अधिकारियों ने इस गैस की उपस्थिति की पुष्टि की थी। एफआईआर में कंपनी से किसी भी कर्मचारी का भी नाम नहीं है। प्राथमिकी आईपीसी की धारा 278 (वातावरण को स्वास्थ्य के लिए हानिकारक बनाते हुए),  284 (जहरीले पदार्थ के संबंध में लापरवाहीपूर्ण आचरण), 285 (खतरे में डालने वाली वस्तु के साथ किसी भी तरह का काम), 304-II (जयह जानते हुए भी की इस कृत्य से मृत्यु का खतरा है) के तहत दर्ज की गई है।

जब इंडियन एक्सप्रेस ने ज्वाइन्ट चीफ इन्स्पेक्टर ऑफ फैक्ट्रीज, जे शिव शंकर रेड्डी से पूछा तो उन्होंने बताया,  “लॉकडाउन के बाद लजी पॉलिमर के तत्कालीन एमहाप्रबंधक और परिचालन निदेशक, पी.पी. चन्द्र मोहन राव पर कारखाने को फिर से खोलने की जिम्मेदारी थी लेकिन वे 6-7 मई की रात को कारखाने में मौजूद नहीं थे, जब फैक्ट्री में काम शुरू करने का फैसला किया गया था।” इंडियन एक्सप्रेस ने पीपी चन्द्रमोहन राव से भी संपर्क करने की कोशिश की, उन्हें कई कॉल किए लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका।

Coronavirus/COVID-19 और Lockdown से जुड़ी अन्य खबरें जानने के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें: शराब पर टैक्स राज्यों के लिए क्यों है अहम? जानें, क्या है इसका अर्थशास्त्र और यूपी से तमिलनाडु तक किसे कितनी कमाईशराब से रोज 500 करोड़ की कमाई, केजरीवाल सरकार ने 70 फीसदी ‘स्पेशल कोरोना फीस’ लगाईलॉकडाउन के बाद मेट्रो और बसों में सफर पर तैयार हुईं गाइडलाइंस, जानें- किन नियमों का करना होगा पालनभारत में कोरोना मरीजों की संख्या 40 हजार के पार, वायरस से बचना है तो इन 5 बातों को बांध लीजिये गांठ…कोरोना से जंग में आयुर्वेद का सहारा, आयुर्वेदिक दवा के ट्रायल को मिली मंजूरी

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 नोएडा: कोरोना संक्रमित की मौत पर नहीं पहुंच सके परिजन, बेटी के अनुरोध पर डीएम ने कराया अंतिम संस्कार
2 स्टेशन तक पहुंचने के लिए नहीं है साधन, शाम चार की ट्रेन पकड़ने सुबह छह बजे निकले लोग
3 कोरोना संक्रमितों की संख्या के मामले में विश्व में बारहवें स्थान पर भारत
ये पढ़ा क्या?
X