गुजरात के कोरोना अस्पताल का भयानक दृश्य, तीन दिनों तक मरीजों के बीच पड़ा रहा लाशों का ढ़ेर

अस्पताल की तरफ से बताया गया कि वलसाड के अस्पताल में शवों को रखने के लिए प्रयोग में आने वाला फ्रीजर खराब है। इस कारण शवों को बेड पर ही छोड़ दिया जाता है।

Gujarat, Corona, covid-19गुजरात के कोरोना अस्पताल में लाशों का ढ़ेर (फोटो- संदेश डॉट कॉम)

पूरे देश में कोरोना का कहर देखने को मिल रहा है। इन सब के बीच गुजरात के एक अस्पताल से दिल दहला देने वाली तस्वीर सामने आयी है। संदेश डॉट कॉम पर छपी खबर के अनुसार राज्य के वालसाड जिले के एक अस्पताल में मरीजों के बीच कोरोनो से मरे लोगों की लाश तीन दिन तक रखी रह गयी। मरीजों को लाशों के ढ़ेर के बीच रखा गया था।

खबर के अनुसार तीन दिन तक जीवित रोगियों के बगल में बेड पर पड़ी लाश सड़ने लगी और उससे बदबू आने लगी। अस्पताल की तरफ से कोविड से मरने वाले मरीजों के शवों को समय पर मुर्दाघर नहीं भेजा जा रहा है। खेरगाम के पनिहादक गांव के रहने वाले निरुबेन गुलाबभाई गंगोदा की 15 अप्रैल को मौत हो गयी। उनके परिजन तीन दिन तक शव के लिए भटकते रहे लेकिन उन्हें शव नहीं दिया गया।

पता करने पर अस्पताल की तरफ से बताया गया कि वलसाड के अस्पताल में शवों को रखने के लिए प्रयोग में आने वाला फ्रीजर खराब है। इस कारण शवों को बेड पर ही छोड़ दिया जाता है। बताते चलें कि राज्य में कोरोना के दूसरी लहर में हालत काफी गंभीर होते जा रहे हैं। कई अस्पतालों में जरूरी दवा और ऑक्सीजन की भी कमी देखने को मिल रही है।

अहमदाबाद के अस्पतालों की भी हालत काफी खराब बतायी जा रही है। अस्पताल के शवगृह के बाहर एंबुलेंस की कतार लगी हुई है। लेकिन कोरोना प्रोटोकॉल और कागजी प्रक्रिया को पूरी करने में घंटों समय लग रहा है।बताते चलें कि गुजरात में पिछले 24 घंटे में 9,541 कोरोना मरीज सामने आए हैं। इस दौरान राज्य में 97 लोगों की मौत हुई है। गुजरात में अब तक कोरोना से 5,267 लोगों की मौत हो चुकी है।

बताते चलें कि स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से रविवार सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार देश में लगातार चौथे दिन 2 लाख से अधिक केस सामने आए हैं। पिछले 24 घंटे में 2 लाख 61 हजार 500 नए मामले दर्ज किए गए हैं।

Next Stories
1 मनमोहन की मोदी से अपीलः आंकड़ेबाजी की बजाए ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाने की व्यवस्था करे सरकार
2 7th Pay Commission: खुशखबरी! इन कर्मचारियों को बढ़कर मिलेगी तनख्वाह, जानें- कैसे?
3 सरकारी नियम बने उलझनः जेनस्ट्रिंग डायगनोस्टिक सेंटर की चीफ ने कहा- 24 घंटे के भीतर ICMR एंट्री करने का फैसला बढ़ा रहा परेशानी
यह पढ़ा क्या?
X