ताज़ा खबर
 

शख्स को आर्मी जीप से बांधकर घुमाने वाले मेजर के नाम वीरेंद्र सहवाग ने लिखा यह संदेश

कश्मीर में सुरक्षा बलों के काफिले को पत्थरबाजों से बचाने के लिए एक स्थानीय कश्मीरी युवक को जीप के बोनट से बांधकर ‘मानव ढाल’ बनाने वाले मेजर नितिन लीतुल गोगोई को सेना ने सम्मानित किया है।

पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग। (फाइल फोटो)

कश्मीर में सुरक्षा बलों के काफिले को पत्थरबाजों से बचाने के लिए एक स्थानीय कश्मीरी युवक को जीप के बोनट से बांधकर ‘मानव ढाल’ बनाने वाले मेजर नितिन लीतुल गोगोई को सेना ने सम्मानित किया है। उन्हें आतंकवाद और घुसपैठ रोधी अभियानों में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए यह सम्मान दिया गया है। वहीं उन्हें सम्मानित किए जाने पर पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने बधाई दी है। सहवाग ने ट्वीट कर मेजर को बधाई दी थी। सहवाग ने अपने ट्वीट में लिखा- “मेजर नितिन गोगोई को बधाई। उन्होंने हमारे जवानों को बचाने के लिए कड़ी मेहनत की है और अपने कई कर्तव्य पूरे किए हैं।”

बता दें मेजर गोगोई उस वीडियो से सुर्खियों में आए थे जिसमें सेना ने कश्मीरी युवक फारूक़ दार को जीप के बोनट के आगे बांधकर घुमाया था। सेना के अनुसार ये कदम पत्थरबाजों से बचने के लिए उठाया गया था। मामला सेंट्रल कश्मीर के बडगाम जिले के एक गांव था। वहीं फारूक़ दार ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा था कि उन्होंने कभी पत्थरबाजी नहीं की थी और उनके साथ गलत हुआ।

गौरतलब है इस वीडियो के सामने आने के बाद काफी विवाद भी हुआ था। वहीं हाल ही में पद्म श्री से सम्मानित और राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता ऐक्टर परेश रावल ने ट्विटर के जरिए मशहूर लेखर और राजनीतिक एक्टिविस्ट अरुंधति राय पर निशाना साधा है। उन्होंने 21 मई 2017 को ट्वीट कर लिखा- ‘पत्थरबाजों की जगह अरुंधति राय को सेना की जीप के सामने बांधा जाना चाहिए।’ इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया दो धड़े में बंटा नजर आया। जहां बहुत सारे लोग उनकी अभद्र और अमर्यादित टिप्पणी के लिए उन्हें लताड़ लगा रहे हैं वहीं कुछ लोग उनका समर्थन भी कर रहे हैं।

वहीं एनडीटीवी के मुताबिक अरुंधति रॉय ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया आज ही दी। अरुंधति रॉय ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा कि उनके पास इसके लिए वक्त नहीं है और वो दूसरे जरूरी कामों में व्यस्त हैं। खबर के मुताबिक रॉय ने कहा कि वो इस मामले को तूल नहीं देना चाहती हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App