ताज़ा खबर
 

JNU में हिंसा: कैंपस में घुसकर नकाबपोशों ने छात्रों, शिक्षकों पर किया हमला, छात्र संघ की अध्यक्ष समेत कई छात्र घायल

जेएनयू छात्र संघ ने इस हमले का आरोप अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद पर लगाया है। कुछ अध्यापकों का कहना है कि छात्र और फैकल्टी मेंबर्स हमलावरों के निशाने पर थे।

जेएनयू में नकाबपोशों ने किया छात्रों पर हमला। (image source-facebook/avinash chanchal)

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी कैंपस में रविवार को हिंसा भड़क गई। इस दौरान छात्रों और फैकल्टी मेंबर घायल हुए हैं। जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आइशी घोष इस दौरान खून से लथपथ दिखाई दीं। उनके सिर में गंभीर चोट आयी है। बताया जा रहा है कि कुछ नकाबपोश लोग कैंपस में घुसे और उन्होंने छात्रों और फैकल्टी मेंबर्स पर हमला किया।

जेएनयू छात्र संघ ने इस हमले का आरोप अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद पर लगाया है। कुछ अध्यापकों का कहना है कि छात्र और फैकल्टी मेंबर्स हमलावरों के निशाने पर थे। अभी मिल रही रिपोर्ट्स के अनुसार, हिंसा की इस घटना में 20 छात्र और टीचर घायल हुए हैं। घायलों को सफदरजंग और एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी छात्रसंघ ने अपने बयान में कहा है कि “एबीवीपी के समर्थक पुलिस की मौजूदगी में लाठी, डंडों, रॉड के साथ घूम रहे हैं और उन्होंने अपने चेहरे नकाब से ढके हुए हैं। वह पत्थरबाजी कर रहे हैं और दीवारों से चढ़कर हॉस्टल में आए और वहां छात्रों को पीटा। कई टीचर और छात्रों को पीटा गया है।”

छात्रसंघ ने बताया कि “छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष पर हमला किया गया, जिससे उनके सिर से खून बह रहा है। छात्रों ने भागकर अपने को बचाने की कोशिश की, लेकिन एबीवीपी के गुंडों ने उनका पीछा किया, वहीं पुलिस भी उनके साथ मिली हुई है। संघी प्रोफेसरों द्वारा उन्हें आदेश दिए जा रहे हैं और छात्रों से जबरन भारत माता की जय के नारे लगवाए जा रहे हैं।”

वहीं एबीवीपी ने JNUSU के आरोपों से इंकार किया है और हमले का आरोप AFSI, AISA और DSF पर लगाया है। हमले में घायल हुई जेएनयू छात्रसंघ की अध्यक्ष आइशी घोष ने कहा कि ‘मुझ पर निर्दयतापूर्वक नकाब पहने गुंडों द्वारा हमला किया गया। मेरे सिर से खून बह रहा है। मुझे बुरी तरह से पीटा गया।’

दिल्ली के चीफ मिनिस्टर अरविंद केजरीवाल ने जेएनयू में हुई हिंसा पर चिंता जाहिर की और अपने बयान में कहा कि “मैं जेएनयू में हुई हिंसा के बारे में जानकर बेहद हैरान हूं। छात्रों को बुरी तरह पीटा गया। पुलिस को तुरंत हिंसा रोककर शांति कायम करनी चाहिए। यह देश किस तरह तरक्की करेगा, यदि छात्र यूनिवर्सिटी कैंपस में ही सुरक्षित नहीं हैं।”

फिलहाल जेएनयू कैंपस में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात है। वहीं जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी ने जेएनयू में हुई हिंसा के खिलाफ आईटीओ घेराव का आह्वान किया है। जेएनयू कैंपस में स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेन्द्र यादव के साथ भी कुछ लोगों द्वारा अभद्रता करने की खबर आयी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के साथ मंच साझा करना ममता के विधायक को पड़ा भारी, पार्टी ने भेजा कारण बताओ नोटिस
2 नेपाल से सटे यूपी के तीन जिलों में हाई अलर्ट, दो वांछित आतंकियों के छिपे होने की आशंका
3 पाकिस्तान में सिख युवक की हत्या, ननकाना साहिब गुरूद्वारे मामले पर भारत ने अपनाया कड़ा रुख, पाकिस्तान से की ये मांग
ये पढ़ा क्या?
X