ताज़ा खबर
 

CAA विरोध में गई तीन की जान, अहमदाबाद से कोलकाता और दिल्ली से बेंगलुरु तक लाठीचार्ज, पत्थरबाजी, आगजनी और आंसू गैस के गोले छोड़े

मेंगलोर शहर से पार्षद अब्दुल लतीफ ने बताया कि शहर के हाईलैंड अस्पताल में पुलिस फायरिंग में मारे गए दो लोगों के शव लाए गए हैं, जिनकी पहचान अब्दुल जलील और नौशीन के रुप में हुई है।

CAA के खिलाफ लखनऊ में हुई हिंसा का एक दृश्य। (एक्सप्रेस फोटो)

संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में देश में जारी विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गए हैं। गुरूवार को कर्नाटक के मेंगलोर और पुराने लखनऊ में हुए विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस फायरिंग में तीन लोगों की मौत हो गई। मेंगलोर शहर से पार्षद अब्दुल लतीफ ने बताया कि शहर के हाईलैंड अस्पताल में पुलिस फायरिंग में मारे गए दो लोगों के शव लाए गए हैं, जिनकी पहचान अब्दुल जलील और नौशीन के रुप में हुई है।

वहीं लखनऊ में भी एक व्यक्ति की मौत हुई है, जिसकी पहचान मोहम्मद वकील के रुप में हुई है। किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के अधिकारियों का कहना है कि मोहम्मद वकील को पेट में गोली लगी थी और उसे घायल अवस्था में अस्पताल लाया गया था, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। वहीं उत्तर प्रदेश के डीआईजी ओपी सिंह का कहना है कि वकील की डेथ का विरोध प्रदर्शनों से कोई संबंध नहीं है।

एक सीसीटीवी फुटेज में दिखाई दे रहा है कि पुलिस ने भीड़ पर लाठीचार्ज कर उसे नियंत्रित करने का प्रयास किया। कर्नाटक के सीएम बीएस येदियुरप्पा ने एडीजीपी अमर कुमार पांडेय को तुरंत मेंगलोर पहुंचकर स्थिति को नियंत्रित करने के निर्देश दिए हैं। कर्नाटक सरकार ने मेंगलोर में अगले 48 घंटों के लिए इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी हैं।

बुधवार को येदियुरप्पा ने अपने एक बयान में कहा था कि राज्य में CAA लागू किया जाएगा। गुरूवार को येदियुरप्पा ने राज्य के अल्पसंख्यक समुदाय को यह यकीन दिलाया कि उनके अधिकार सुरक्षित रहेंगे। येदियुरप्पा ने मुस्लिम समुदाय के लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की और साफ किया कि CAA से उन पर कोई असर नहीं होगा।

 

वहीं लखनऊ में हुई प्रदर्शनकारी की मौत पर डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि हमें नहीं लगता कि प्रदर्शनकारी की मौत का संबंध आज के विरोध प्रदर्शन से है। हमारी प्राथमिकता फिलहाल कानून व्यवस्था बनाए रखने की है। हम बाद में इस पर विचार करेंगे।

गुरूवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर किया गया, जिसमें दावा किया गया कि मोहम्मद वकील के भाई ने आरोप लगाया है कि हुसैनाबाद पुलिस पोस्ट के पास एक सब-इंस्पेक्टर ने उसके भाई को गोली मारी है। वीडियो में बताया गया कि वकील की 18 माह पहले ही शादी हुई है और उसकी बीवी गर्भवती है। हालांकि पुलिस फायरिंग में वकील की मौत से इंकार कर रही है।

Next Stories
1 Weather forecast Today: उत्तर भारत में घना कोहरा और शीतलहर से कड़ाके की ठंड, जानिए अपने क्षेत्र के मौसम का हाल
2 इंजन के अंदर ही चालक को मिलेगा ट्रेन रोकने-चलाने का सिग्नल
3 जंतर मंतर पर सीएए और एनआरसी के खिलाफ आवाज हुई बुलंद
ये पढ़ा क्या?
X