ताज़ा खबर
 

Shaheen Bagh में फहराया गया तिरंगा, गणतंत्र दिवस पर प्रदर्शनकारियों ने CAA-NRC के खिलाफ बुलंद की आवाज; देखें VIDEO

Shaheen Bagh, Republic Day: प्रदर्शन कर रही महिलाओं ने सरकार से CAA वापस लेने की मांग करते हुए कहा है कि जब तक नागरिकता कानून वापस नहीं लिया जाएगा तब तक यह आंदोलन जारी रहेगा।

Author दिल्ली | Updated: January 26, 2020 2:24 PM
शाहीन बाग में मौजूद लोग फोटो- इंडियन एक्सप्रेस

Shaheen Bagh, Republic Day VIDEO: दिल्ली के शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में चल रहे नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन में लोगों ने गणतंत्र दिवस (Republic Day) के मौके पर तिरंगा फहराया। यहां पिछले करीब डेढ़ महीने से सीएए और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन्स (NRC) के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन किया जा रहा है। झंडारोहण के मौके पर JNU के पूर्व छात्र उमर खालिद भी मौजूद थे। इस दौरान भारी भीड़ उमड़ी और एक साथ राष्ट्रगीत जन गण मन गाकर गणतंत्र दिवस का जश्न मनाया।

गणतंत्र दिवस पर शाहीन बाग़ में जश्न: यहां प्रदर्शनकारियों की भारी भीड़ उमड़ी, जिसने Citizenship Amendment Act, NRC और NPR का जमकर विरोध करते हुए गणतंत्र दिवस मनाया। इस मौके पर जेएनयू के पूर्व छात्र औउमर खालिद भी घटनास्थल पर मौजूद रहे। शाहीन बाग़ में 80 फुट ऊंचाई पर 45 फुट लंबा तिरंगा बुजुर्ग महिलाओं ने फहराया। बताया जा रहा है कि इस बीच करीब 10 लाख लोगों ने एक साथ राष्ट्रगीत जन गण मन गाकर विश्व के किसी भी राष्ट्रगान को एक साथ गाए जाने वाले रिकॉर्ड को तोड़ने की कोशिश की। इस बीच शाहीन बाग में आज सुबह 9.30 बजे करीब 10 लाख लोग एक साथ राष्ट्रगीत जन गण मन गाकर विश्व के किसी भी राष्ट्रगान को एक साथ गाए जाने वाले रिकॉर्ड को तोड़ने की कोशिश करेंगे.

महीने भर से जारी है प्रदर्शन: शाहीन बाग के लोगों के मुताबिक 26 जनवरी को उनका विरोध प्रदर्शन 43 दिन लंबा हो गया है। इन 43 दिनों में यहां बड़ी संख्या में लोगों को उनके आंदोलन को साथ दिया। प्रदर्शनकारियों का कहना कि कोई भी इस प्रोटेस्ट का एकमात्र आयोजक नहीं हो सकता भले ही वह शरजील इमाम (विवादित बयान देने वाला) ही क्यों न हो।

CAA वापस लो: महीने भर से ज्यादा दिनों से महिलाओं ने आगे बढ़कर इस प्रदर्शन को बढ़ाने का फैसला किया था। इन महिलाओं ने CAA और NRC को लेकर केंद्र सरकार के खिलाफ आवाज बुलंद की और कहा कि CAA को वापस लेने तक यह आंदोलन जारी रहेगा। हालांकि इसको लेकर अब रास्ते बंद होने से लोगों को तकलीफ भी हो रही है। जिसकी वजह से यह मुद्दा कोर्ट तक गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 पोलियो की दवा पिलाने गई थी टीम, लोगों ने NRC वाले समझ बंधक बनाया और धुन डाला
2 गणतंत्र दिवस पर पीएम मोदी ने तोड़ी 48 साल पुरानी परंपरा, पुरुष टुकड़ी की अगुवाई करने वाली पहली महिला कैप्टन बनीं तानिया शेरगिल
3 अफेयर के चलते हेडक्वार्टर में पोस्टिंग चाहता था BSF का IED एक्सपर्ट, नहीं मिली तो सीनियर को भेज दिया पार्सल बम
ये पढ़ा क्या?
X