ताज़ा खबर
 

Video: RPF जवान ने चलती ट्रेन में दौड़कर बच्ची को पहुंचाया दूध, सोशल मीडिया पर हो रही तारीफ

31 मई को एक श्रमिक स्पेशल ट्रेन कर्नाटक से भोपाल जा रही थी। इस दौरान एक बच्ची की मां शाफिया हाश्मी ने आरपीएफ जवान से मदद मांगी।

Shafiya Hashmi,Railway Protection Force,Bhopalआरपीएफ जवान के इस कदम की सभी तारीफ कर रहे हैं। (फोटो-सोशल मीडिया)

कोरोना वायस के बीच कुछ ऐसी कहानियां सामने आ रही हैं जिसमें इंसान फरिश्ता बनकर लोगों की मदद कर रहे हैं। कुछ ऐसा ही एक वीडियो सामने आया है जिसमें Railway Protection Force (RPF) के एक जवान ने अपनी जान पर खेलकर एक बच्ची को दूध पहुंचाया। सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल हो रहा है और लोग  आरपीएफ जवान की जमकर तारीफ कर रहे हैं।

दरअसल, 31 मई को एक श्रमिक स्पेशल ट्रेन कर्नाटक से भोपाल जा रही थी। इस दौरान एक बच्ची की मां  शाफिया हाश्मी ने आरपीएफ जवान से मदद मांगी। इस दौरान इंदर यादव ने 10 मिनट के भीतर न केवल उसकी मां की पूरी बात सुनी, उन्होंने स्टेशन परिसर के अंदर से दूध खरीदा और उसे बच्ची तक दूध पहुंचाया। दूध खरीदते वक्त ट्रेन चलने लगी जिसके बाद उन्होंने  दौड़कर उस बच्ची को दूध पकड़ाया। स्टेशन परिसर में लगे सीसीटीवी कैमरे में यह घटना कैद हो गई। वीडियो वायरल होने के बाद हर कोई जवान के इस कदम की सराहना कर रहा है।

दूध मिलने के बाद घर आकर साफिया हाशमी आरपीएफ के जवान इंदर को शुक्रिया कहा। उन्होंने कहा कि मुझे किसी स्टेशन पर दूध नहीं मिल रहा था। भोपाल में दूध मिला। मेरी तीन महीने की बच्ची है। इंदर यादव जी ने मेरी मदद की इसके लिए बहुत-बहुत शुक्रिया।

इंदर यादव के इस कार्य की तारीफ खुद रेल मंत्री पीयूष गोयल ने की है। उन्होंने लिखा है रेलवे परिवार का सराहनीय कार्य। इंदर यादव का यह काम काबिले तारीफ हैं और लोगों के लिए एक उदारहण प्रस्तुत करता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 और अंदर तक घुसपैठ की प्लानिंग में थे चीनी सैनिक, वक्त पर सेना की तैनाती से हटे पीछे: रिपोर्ट
2 कोरोना वायरस: तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल 960 विदेशियों के भारत आने पर 10 साल का प्रतिबंध
3 India-Australia Virtual Summit: भारत-ऑस्ट्रेलिया में हुई बिग डील, कर सकेंगे एक-दूसरे के मिलिट्री बेस का इस्तेमाल