ताज़ा खबर
 

VIDEO: NRC, CAA के विरोध में अचानक सीएम के काफिले के सामने आए AASU कार्यकर्ता, काबू करने में ऐसे छूट गए पुलिस के पसीने

Citizenship Amendment Act Protests : यह लोग हाथ में काले कपड़े लेकर 'गो बैक' का नारा लगा रहे थे। सीएम के काफिले की गाड़ियां एक के बाद एक वहां से गुजर रही थीं। काफी देर तक वहां अफरातफरी की स्थिति बनी रही।

Author Edited By Nishant Nandan Published on: January 15, 2020 10:22 PM
प्रदर्शनकारियों को हटाने में पुलिस के पसीने छूट गए। फोटो सोर्स – वीडियो स्क्रीनशॉट, ANI

Citizenship Amendment Act Protests : नागरिकता संशोधन कानून और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजनशिप पर मचे हंगामे के बीच अब असम में मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनेवाल के काफिले के सामने विरोध प्रदर्शन हुआ है। सीएम सर्बानंद सोनेवाल के काफिले के सामने हुए विरोध प्रदर्शन का एक वीडियो भी सामने आया है। इस वीडियो में नजर आ रहा है कि कुछ लोग सड़क पर पैदल ही पुलिस वालों के साथ चल रहे होते हैं और तब ही सड़क पर सीएम का काफिला गुजरता है। अचानक पुलिस के साथ चल रहे यह लोग अपने पास से काले कपड़े निकाल लेते हैं और सीएम के काफिले के सामने आकर प्रदर्शन करने लगते हैं।

यह लोग हाथ में काले कपड़े लेकर ‘गो बैक’ का नारा लगा रहे थे। सीएम के काफिले की गाड़ियां एक के बाद एक वहां से गुजर रही थीं। काफी देर तक वहां अफरातफरी की स्थिति बनी रही। इस दौरान वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियों को इन्हें काबू करने के लिए मशक्कत करनी पड़ती है। जानकारी के मुताबिक यह वीडियो डिब्रूगढ़ का है। यहां All Assam Students’ Union (AASU) के कार्यकर्ताओं ने सीएम के काफिले के सामने आकर प्रदर्शन किया है।

बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून का विरोध इस वक्त असम, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, यूपी समेत कई राज्यों में हो रहा है। प्रदर्शनकारी लगातार सरकार से इस कानून को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। सीएए का विरोध कर रहे लोगों का कहना है कि सरकार इस कानून के तहत धार्मिक रूप से भेदभाव बरत रही है। हालांकि केंद्र सरकार सीएए को लेकर कई बार साफ कर चुकी है कि इस कानून के तहत किसी भी भारतीय नागरिक की नागरिकता नहीं ली जाएगी। यह कानून नागरिकता खत्म करने का नहीं बल्कि नागरिकता देने का है। वहीं सरकार ने एनआरसी को लेकर भी साफ किया है कि अभी एनआरसी पर कुछ भी चर्चा नहीं हुआ है।

आपको बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून के तहत पाकिस्तान, अफगानिस्तान तथा बांग्लादेश से धार्मिक प्रताड़ना का शिकार होकर आने वाले सिख, हिंदू, पारसी, इसाई तथा बौद्ध धर्म के लोगों को भारत की नागरिकता दी जाएगी।

इस कानून में मुस्लिम समुदाय का जिक्र नहीं किया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 कांग्रेस और पाकिस्तान ने मिल कर रची CAA विरोध की साजिश! पूर्व केंद्रीय मंत्री व महिला नेताओं ने ट्वीट कर साधा निशाना
2 ‘गैंगस्टर करीम लाला से मिलने मुंबई आती थीं इंदिरा गांधी’, शिवसेना नेता संजय राउत ने किया दावा
3 ‘…तब आप मुझसे कहते थे कि RSS के लोग खतरनाक हैं’, तेजस्वी यादव ने CAA पर चर्चा के दौरान नीतीश पर साधा निशाना
ये पढ़ा क्या?
X