ताज़ा खबर
 

वीड‍ियो: ऐसे होती है पीएम की लैड‍िंग, व‍िमान लैंड होते ही हर ओर से आ जाते हैं एसपीजी कमांडो

प्रधानमंत्री का सुरक्षा घेरा जेड प्लस कैटगरी का होता है और इसके पहले लेयर में स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) के अधिकारी शामिल होते हैं।

जेड प्लस कैटगरी में 36 सुरक्षाकर्मी तैनात होते हैं। इनमें 10 एनएसजी और एसपीजी कमांडो होते हैं

वीवीआईपीज की सुरक्षा को लेकर अक्सर लोगों के जेहन में सवाल कौंधता है कि आखिर उनकी सुरक्षा कैसे होती है? कितने लेयर में सुरक्षा होती है? कौन करता है और सुरक्षाकर्मी कैसे एक जगह से दूसरी जगह मूव करते हैं। मंगलवार (28 नवंबर) को जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैदराबाद में मेट्रो ट्रेन का उद्घाटन करने और ग्लोबल एंटरप्रेन्योरशिप समिट में हिस्सा लेने के लिए वायुसेना के विशेष हेलीकॉप्टर से हैदराबाद पहुंचे तो उनकी सुरक्षा व्यवस्था के बारे में आमलोगों को जानकारी हुई। बता दें कि इस समिट में पीएम की मुलाकात अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की बेटी और सलाहकार इवांका ट्रंप से हुई। कार्यक्रम में इवांका ट्रम्प का पीएम मोदी ने गर्मजोशी से स्वागत किया।

पीएम की लैंडिंग का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसमें दिख रहा है कि पीएम मोदी के काफिले में तीन हेलीकॉप्टर एक साथ बारी-बारी से किसी खास स्थल पर लैंड कर रहे हैं। तीनों चॉपर के लैंड होते ही एसपीजी के सुरक्षाकर्मी उस चॉपर को घेर लेते हैं, जिनमें पीएम मौजूद होते हैं। ये सभी सुरक्षाकर्मी हथियारों से लैस होते हैं। बता दें कि प्रधानमंत्री का सुरक्षा घेरा जेड प्लस कैटगरी का होता है और इसके पहले लेयर में स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) के अधिकारी शामिल होते हैं।

देखें- पीएम मोदी की लैंडिंग का वीडियो

वीडियो में दिख रहा है कि पीएम के विमान से उतरते ही एसपीजी के अधिकारी उनके लिए ब्लैक सफारी कार लेकर आते हैं। पीएम विमान से उतरकर उस सफारी में बैठ जाते हैं। सफारी कार को भी एसपीजी के सुरक्षा अधिकारी घेरे रहते हैं और उसे पैदल ही स्कॉट करते हुए और चारों तरफ से सुरक्षा कवच प्रदान करते हुए वहां से रवाना करते हैं। कई मौकों पर ये सफारी गाड़ी एसपीजी के अधिकारी दिल्ली से ही लेकर आते हैं।

पीएम की सुरक्षा में एसपीजी के साथ-साथ एनएसजी के कमांडों भी तैनात होते हैं। ये लोग उन्हें प्रस्तावित कार्यक्रम या दौरा स्थल तक एस्कॉर्ट करते हुए ले जाते हैं। यहां बताना जरूरी है कि जब भी प्रधानमंत्री का कोई कार्यक्रम किसी भी शहर में बनता है तो एसपीजी के अधिकारी पहले से ही वहां पहुंचकर उसे अपने नियंत्रण में ले लेते हैं। वहां की स्थानीय पुलिस भी एसपीजी सुरक्षा अधिकारियों के साथ ही तालमेल बिठाकर शहर की ट्रैफिक व्यवस्था संचालित करते हैं। पीएम के कार्यक्रम स्थल पर किसी को भी अनजान शख्स को जाने की इजाजत नहीं होती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App