ताज़ा खबर
 

‘पैसों के बदले BSP में मिलता है टिकट, जो ज्यादा देता है उसे पहले मिलता है’, विधानसभा में बोले मायावती के MLA

बाहर पत्रकारों से बाद में वह बोले, "पैसे से चुनाव प्रभावित हो रहे हैं। गरीब आदमी चुनाव नहीं लड़ सकता है। पार्टियों में टिकटों के लिए पैसों का लेन-देन होता है। हमारी पार्टी में भी होता है।"

Rajendra Gudha, BSP MLA, Jaipur, Rajasthan, Rajasthan Assembly, Money, Elections, Poor, Party, Tickets, Mayawati, Lucknow, UP, State News, India News, National News, Hindi Newsबसपा विधायक ने राजस्थान विधानसभा के भरे सदन में यह सनसनीखेज दावा गुरुवार को किया। (फोटोः PTI/ANI)

मायावती के नेतृत्व वाली बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के एक विधायक ने बड़ा सनसनीखेज दावा किया है। राजस्थान से पार्टी विधायक राजेंद्र गुढ़ा ने गुरुवार (एक अगस्त, 2019) को कहा है कि उनकी पार्टी में पैसे लेकर लोगों को चुनाव के लिए टिकट दिया जाता है। जो अधिक पैसे देता है, उसे ही चुनाव लड़ने का मौका मिलता है। अगर कोई ज्यादा पैसे दे दे, तब पहले वाले व्यक्ति का टिकट काटकर अधिक रकम वाले को टिकट मिलता है।

भरी विधानसभा में उन्होंने कहा, “हमारी पार्टी बसपा में पैसे लेकर टिकट दिया जाता है…कोई और ज्यादा पैसे दे देता है, तब पहले वाले व्यक्ति का टिकट काट अधिक पैसे देने वाले को टिकट मिल जाता है। तीसरा कोई ज्यादा पैसे दे देता है, तब पहले वाले दोनों का टिकट काट कर उसे टिकट मिलता है।”

बाहर पत्रकारों से बाद में वह बोले, “पैसे से चुनाव प्रभावित हो रहे हैं। गरीब आदमी चुनाव नहीं लड़ सकता है। पार्टियों में टिकटों के लिए पैसों का लेन-देन होता है। हमारी पार्टी में भी होता है।” देखें, वीडियोः

दरअसल, विधानसभा में राष्ट्रमंडल संसदीय संघ (राजस्थान शाखा) और लोकनीति-सीएसडीएस की संगोष्ठी के बीच गुढ़ा ने टिकटों की खरीद-फरोख्त का सनसनीखेज खुलासा किया। संगोष्ठी के तकनीकी सत्र में पैनल के एक सदस्य से सवाल उठाया था, “गुढ़ा ने कहा कि हमारी पार्टी में टिकट देने के बदले में धन लिया जाता है और अगर कोई ज्यादा धन देता है तो टिकट उसे दे दिया जाता है और अगर कोई तीसरा व्यक्ति और ज्यादा धन देने की पेशकश करता है तो टिकट उसको दे दिया जाता है…इसका कोई समाधान है क्या…?”

बसपा विधायक के इस आरोप पर पैनल ने कोई जवाब नहीं दिया, पर पैनल सदस्यों में शामिल प्रतिपक्ष के उपनेता राजेंद्र राठौड़ ने कहा कि इसका उत्तर सीधा उन्हें मायावती से लेना चाहिए। संगोष्ठी का दूसरा सत्र ”भारत में संसदीय लोकतंत्र की बदलती दल प्रणाली और समकालीन चुनौतियां” विषय पर था। दो तकनीकी सत्र वाले एक दिवसीय संगोष्ठी का उद्घाटन पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने किया था। (पीटीआई-भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 उन्नाव मामले पर डिबेट में महिला पैनलिस्ट ने यूपी सरकार, पुलिस पर उठाए सवाल तो तमतमा उठे बीजेपी प्रवक्ता
2 शिवसेना बोली आदित्य ठाकरे हैं सीएम उम्मीदवार, राजनाथ सिंह बोले- देवेंद्र फड़णवीस बनेंगे दोबारा सीएम
3 ट्रेन के भीतर और प्लेटफॉर्म पर HD क्वालिटी फिल्में-वीडियोज जल्द, Indian Railways ने बनाया ये प्लान
ये पढ़ा क्या?
X