ताज़ा खबर
 

प्रवीण तोगडि़या बोले- डोनाल्‍ड ट्रंप से सीखिए, पाकिस्‍तान पर बम गिराकर जाधव को रिहा कराइए

विश्‍व हिंदू परिषद् (विहिप) के नेता प्रवीण तोगडि़या ने कहा है कि पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव को रिहा कराने के लिए भारत को पाकिस्‍तान पर बमबारी करनी चाहिए।

विश्‍व हिंदू परिषद् (विहिप) के नेता प्रवीण तोगडि़या ने कहा है कि पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव को रिहा कराने के लिए भारत को पाकिस्‍तान पर बमबारी करनी चाहिए।

विश्‍व हिंदू परिषद् (विहिप) के नेता प्रवीण तोगडि़या ने कहा है कि पूर्व नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव को रिहा कराने के लिए भारत को पाकिस्‍तान पर बमबारी करनी चाहिए। उन्‍होंने शुक्रवार (14 अप्रैल) को जमशेदपुर में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि भारत को अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप से सीखना चाहिए। हिंदुस्‍तान टाइम्‍स की रिपोर्ट के अनुसार, तोगडि़या ने कहा, ”ट्रंप ने अफगानिस्‍तान में आईएसआईएस के छुपे आतंकियों को निशाना बनाकर बमबारी करते हुए बताया कि उनके लिए अमेरिका कैसे पहले आता है। हमारी सरकार को पाकिस्‍तान पर बम डालकर इसी तरह संकल्प दिखाना चाहिए। इसके जरिए भारतीय जवान को रिहा कराना चाहिए।” बता दें कि कुलभूषण जाधव को पाकिस्‍तान में जासूसी के आरोप में फांसी की सजा दी गई है।

तोगडि़या ने कश्‍मीर में सुरक्षाबलों से लड़ रहे आतंकियों पर भी कड़ी कार्रवार्इ करने को कहा है। उन्‍होंने कहा, ”यह समय है जब हम कोई नरमी ना बरतें और उन पर बमबारी करें नहीं तो दुश्‍मन अन्‍य राज्‍यों में भी फैल जाएगा और देश को तोड़ने की बात की जाएगी।” तोगडि़या अयोध्‍या में राम मंदिर के निर्माण के लिए फंड इकट्ठा करने गए हैं। तोगडि़या की यात्रा से पहले राज्‍य में सुरक्षा व्‍यवस्‍था भी बढ़ाई गई थी। झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता बाबर खान ने विहिप नेता के जमशेदपुर में आने पर रोक लगाने की मांग की थी। उनकी ओर से कहा गया कि शांति और साम्‍प्रदायिक सौहार्द्र के लिए ऐसा जरूरी है। इस पर विश्‍व हिंदू परिषद के स्‍थानीय नेताओं ने कड़ी प्रतिक्रिया दी थी। उन्‍होंने बाबर खान को घर में बंद करने की मांग की थी।

उन्‍होंने कहा कि अयोध्‍या में राम मंदिर बनकर रहेगा। देश भगवा रंग में रंग रहा है। उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्‍तर प्रदेश की योगी आदित्‍यनाथ के नेतृत्‍व वाली राज्‍य सरकार से किसानों और हिंदुओं पर ध्‍यान देने को कहा। तोगडि़या ने देश में गौहत्‍या को लेकर कानून बनाने की मांग भी की। उन्‍होंने कहा कि कानून नहीं बनने पर कथित गौरक्षकों द्वारा घृणित घटनाओं को अंजाम देने में वृद्धि होगी। सरकारें गौहत्‍या को लेकर कानून बनाने में विफल रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App