ताज़ा खबर
 

Deepika Padukone के JNU जाने पर VHP ने मांगी सफाई, कहा- साफ करें अपना रुख, किस तबके के साथ?

विहिप के केंद्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे ने कहा, 'इन दिनों जिस तरह देश विरोधी ताकतों द्वारा एक साजिश के तहत जेएनयू और जामिया मिलिया इस्लामिया जैसे उच्च शिक्षा संस्थानों में हिंसा का उपयोग किया जा रहा है, उसे मैं बेहद खतरनाक मानता हूं। इन परिसरों में हिंसक आंदोलनों का करने वाले लोगों को सजा मिलनी चाहिए।'

Author नई दिल्ली | January 8, 2020 5:06 PM
Chhapaak एक्ट्रेस Deepika Padikone मंगलवार शाम JNU पहुंची थीं।

दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में हालिया हिंसा के बाद बॉलीवुड अभिनेत्री दीपिका पादुकोण के जेएनयू पहुंचने पर विश्व हिंदू परिषद के एक वरिष्ठ पदाधिकारी ने बुधवार (08 जनवरी) को कहा कि दीपिका को स्पष्ट करना चाहिए कि वह वहां किसके साथ एकजुटता दिखाने गई थीं। इस पर विहिप के केंद्रीय महामंत्री मिलिंद परांडे ने कहा, ‘महत्वपूर्ण बात यह है कि दीपिका जेएनयू के किन विद्यार्थियों के साथ एकजुटता दिखा रही हैं? हालिया हिंसा के वक्त वहां दो तरह के विद्यार्थी थे। एक तबका विद्यार्थियों पर हमला कर रहा था, जबकि दूसरा वर्ग हमलावरों से उनकी सुरक्षा का प्रयत्न कर रहा था।’ उन्होंने यह भी पूछा, ‘क्या वह (दीपिका) उन लोगों के साथ एकजुटता दिखा रही हैं जो जेएनयू में गलत काम कर रहे हैं?’

परांडे-देशहित के खिलाफ बात करना बर्दाश्त नहींः परांडे ने जोर देकर कहा कि देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था में हिंसा का कोई स्थान नहीं है और 34 वर्षीय अभिनेत्री को स्पष्ट करना चाहिए कि वह जेएनयू विद्यार्थियों के किस तबके के साथ हैं। जेएनयू हिंसा मामले में केंद्र सरकार पर बॉलीवुड निर्माता-निर्देशक अनुराग कश्यप के तीखे हमलों के बारे में पूछे जाने पर विहिप महामंत्री ने किसी का नाम लिए बगैर कहा, ‘मुझे लगता है कि इस तरह का रुख रखना कुछ लोगों के लिए फैशनेबल बात हो गई है। अगर कोई भी व्यक्ति देशहित के खिलाफ बात करता है, तो यह सरासर गलत है और इसे हम कतई स्वीकार नहीं कर सकते, भले ही ये बातें कितनी भी बड़ी और मशहूर हस्तियों के मुंह से निकली हों।’

Hindi News Today, 8 January 2020 LIVE Updates: देश की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

देश विरोधी ताकतें उच्च शिक्षा संस्थानों में फैला रही हैं हिंसा- परांडेः मामले में परांडे ने कहा, ‘इन दिनों जिस तरह देश विरोधी ताकतों द्वारा एक साजिश के तहत जेएनयू और जामिया मिलिया इस्लामिया जैसे उच्च शिक्षा संस्थानों में हिंसा का उपयोग किया जा रहा है, उसे मैं बेहद खतरनाक मानता हूं। इन परिसरों में हिंसक आंदोलनों का करने वाले लोगों को सजा मिलनी चाहिए।’ गौरतलब है कि सीएए के अनुसार 31 दिसम्बर, 2014 तक अफगानिस्तान, बांग्लादेश और पाकिस्तान से धार्मिक प्रताड़ना के कारण भारत आए हिन्दू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदायों के लोगों को भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन हेतु पात्र बनाने का प्रावधान है।

हिंदुओं और सिखों के साथ विभाजन में हुआ था ‘ऐतिहासिक अन्याय’: संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) की जोरदार पैरवी करते हुए विहिप महामंत्री ने कहा कि वर्ष 1947 में भारत के विभाजन के वक्त खासकर हिंदुओं और सिखों के साथ ‘ऐतिहासिक अन्याय’ किया गया था। इस नाइंसाफी को दूर करने के लिए भारत सरकार द्वारा सीएए के जरिए अच्छा कदम उठाया गया है।

राजनीतिक दलों पर मुस्लिम तुष्टीकरण करने का लगाया आरोपः वरिष्ठ पदाधिकारी ने कहा, ‘भारत के कुछ राजनीतिक दल और साम्यवादी शक्तियां सीएए की आड़ में हिंसा भड़काते हुए मुस्लिम तुष्टीकरण का प्रयास कर रही हैं, जबकि देश के मुसलमानों से इस कानून का कोई संबंध ही नहीं है। यह किसी व्यक्ति की नागरिकता छीनने वाला नहीं, बल्कि पड़ोसी मुल्कों में धार्मिक आधार पर सताए गए लोगों को नागरिकता देने वाला कानून है।’

Next Stories
1 सोशल मीडिया पर “बायकॉट Chhapaak” के बीच बोलीं DMK सांसद कनिमोझी- दीपिका पादुकोण की फिल्म को पूरा समर्थन
2 VIDEO: ‘इलाज दिल्ली ही करती है, Ayushman Bharat से महज कार्ड मिलता है’, केजरीवाल ने गिनाए कारण तो बजने लगीं तालियां
3 दीपिका पादुकोण की Chhapaak फिल्म का करें बहिष्कार, JNU में किया था ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ का समर्थन; BJP सांसद बोले
ये पढ़ा क्या?
X