ताज़ा खबर
 

स्मार्ट सिटी योजनाओं में पर्यावरण पर दिया जाएगा ध्यान: वेंकैया नायडू

स्मार्ट शहर शासन, सतत पर्यावरण, परिवहन, सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकियों, सौर ऊर्जा, वर्षा जल संचय, हरियाली और अन्य सहित ‘महत्त्वपूर्ण स्तंभों’ पर आधारित हैं।

Author नई दिल्ली | November 8, 2016 5:51 AM
केंद्रीय मंत्री एम. वेंकैया नायडू। (Source: PIB)

राष्ट्रीय राजधानी के भारी धुंध की चपेट में आने के बीच केंद्रीय मंत्री एम वेंकैया नायडू ने स्मार्ट सिटी योजनाएं तय करते समय पर्यावरण पहलुओं को ध्यान में रखने पर आज जोर दिया। नायडू ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में गंभीर प्रदूषण स्तर लंबे समय से की जा रही पर्यावरण की अनदेखी की वजह से है और हर किसी को स्थिति से निपटने के लिए ‘अपनी तरफ से कुछ न कुछ’ करने की जरूरत है ।

उन्होंने कहा, ‘हमें (स्मार्ट शहरों में भी) पर्यावरण पहलुओं को लेकर सजग रहना होगा। पर्यावरण और विकास को साथ-साथ मिल कर चलना चाहिए। यदि आप पर्यावरण की अनदेखी करेंगे तो क्या होगा, उदाहरण आपके सामने है, लेकिन यह कोई एक दिन की बात नहीं है।’ नायडू ने यहां स्मार्ट शहरों पर कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग सेवा प्रशिक्षण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, ‘अब जो पर्यावरण मुद्दा सामने आया है, वह कोई राजनीतिक मुद्दा या एक दिन की बात नहीं है। नागरिकों से लेकर केंद्र तक, शहरों से लेकर राज्यों तक, हर कोई को मुद्दे से निपटने के लिए कुछ न कुछ करना होगा।’

HOT DEALS
  • I Kall Black 4G K3 with Waterproof Bluetooth Speaker 8GB
    ₹ 4099 MRP ₹ 5999 -32%
    ₹0 Cashback
  • ARYA Z4 SSP5, 8 GB (Gold)
    ₹ 3799 MRP ₹ 5699 -33%
    ₹380 Cashback

रामनाथ गोयनका अवॉर्ड्स: मीडिया की भूमिका पर बोले पीएम मोदी

मंत्री ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा, ‘विषम-सम योजना विषम ही रहेगी। आॅड (विषम) करेगा, वरना गॉड (ईश्वर) करेगा। यह ईश्वर प्रदत्त नहीं है, बल्कि मानव प्रदत्त है…इस तरह की समस्याओं से निपटने के लिए हर किसी को अपनी तरफ से कुछ न कुछ करना होगा।’
नायडू की टिप्पणी केजरीवाल के यह कहने के एक दिन बाद आई है कि उनकी सरकार धुंध से निपटने के प्रयासों के तहत सम-विषम योजना फिर शुरू करने पर विचार कर रही है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संबंधी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए स्मार्ट शहरों पर ‘नवोन्मेषी विचारों और अन्य उदाहरणों से सीखते हुए’ आगे बढ़ा जाएगा।

मंत्री ने कहा कि स्मार्ट शहर शासन, सतत पर्यावरण, परिवहन, सूचना एवं संचार प्रौद्योगिकियों, सौर ऊर्जा, वर्षा जल संचय, हरियाली और अन्य सहित ‘महत्त्वपूर्ण स्तंभों’ पर आधारित हैं। बढ़ते प्रदूषण से निपटने के लिए केजरीवाल ने बुधवार तक स्कूलों को बंद रखने, पांच दिन तक सभी निर्माण कार्यों को प्रतिबंधित करने और एक बिजली संयंत्र को अस्थायी रूप से बंद करने सहित कई कदमों की कल घोषणा की थी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App