ताज़ा खबर
 

छात्र जीवन में ही वीडी सावरकर ने साथियों संग किया था मस्जिद पर हमला, हिंदुओं के रुख से थे खफा

इस घटना का जिक्र सावरकर के जीवन पर लिखी गई विक्रम संपत की किताब 'सावरकर' में मिलता है, जिसे 'पेंग्विन रैंडम हाऊस इंडिया' ने प्रकाशित किया है।

Author नई दिल्ली | Published on: October 17, 2019 4:11 PM
भारत में एक बड़ा वर्ग वीडी सावरकर को वीर और होरो मानता है, जबकि दूसरा धड़ा उन्हें विलेन करार देता है। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

विनायक दामोदर सावरकर ने छात्र जीवन में एक बार मस्जिद तोड़ने की ‘गुप्त साजिश’ रची थी। यहां तक कि उन्होंने कुछ साथियों संग मिलकर मस्जिद पर हमला भी किया था। ऐसा इसलिए, क्योंकि वे तब हिंदुओं के रुख से बेहद खफा थे, जिसके आजिज आकर उन्होंने बाद में मस्जिद पर हमला भी बोला था और फरार भी हो गए थे। इन बातों का जिक्र सावरकर के जीवन पर लिखी गई विक्रम संपत की किताब ‘सावरकर’ में मिलता है।

पेंग्विन रैंडम हाऊस इंडिया द्वारा प्रकाशित इस किताब के मुताबिक यह वाकया 1890 के दौर का है। महाराष्ट्र तब धुव्रीकरण की राजनीति में बुरी तरह झुलस रहा था। मुंबई प्रेसिडेंसी में जगह-जगह दंगे भड़क रहे थे। कभी गणपति कार्यक्रम के दौरान माहौल खराब होता, तो किसी मौके पर मांस और अंडा हिंसा की वजह बनते।

6 फरवरी 1894 को नासिक के येवला स्थित मस्जिद में कथित तौर पर सुअर का कटा सिर फेंक दिया गया था। कुछ वक्त बाद खबर आई कि सुअर के मांस वाली घटना के जवाब में मंदिर में गोहत्या कर दी गई। इलाके में इसके बाद तनाव पनपा और सुरक्षा मुस्तैद की गई। खबर आगे मस्जिद और मंदिर फूंकने की साजिश रचे जाने तक की आईं।

इसी बीच, हिंसा में चार लोगों की जान भी चली गई थी। किताब में बताया गया कि उस दौरान होने दोनों समुदायों के बीच हिंसाओं के पीछे एक और कारण भी था। वह था- मस्जिदों के बाहर हिंदुओं के कार्यक्रमों के दौरान गाने बजाना। सावरकर दोस्तों के साथ उस दौरान ‘केसरी’, ‘पुणे वैभव’ और अन्य प्रमुख अखबार पढ़ते थे, जिसमें उन्हें धुव्रीकरण के कारण होने वाली हिंसा की खबरें मिल रही थीं। हर बार उन्हें हिंदुओं पर ही हमलों की खबर मिलती थी और इसी बात पर वे अपने समुदाय से बेहद नाराज थे। साथियों संग उन्हें हैरानी होती थी आखिर इतना सब होने पर हिंदू जवाब क्यों नहीं दे रहे?

दंगों का बदला लेने की भावना सावरकर में मन में फूट चुकी थी, जिसके बाद उन्होंने मस्जिद पर चंद छोटे-मोटे हथियारों के साथ हमला बोल दिया था। हमले में मस्जिद के हिस्से टूटे भी थे और साथियों समेत सावरकर घटना को अंजाम देकर फौरन भाग गए थे। यह खबर जब सावरकर के मुस्लिम सहपाठियों तक पहुंची तो वे काफी गुस्सा हुए। स्कूल भी उस बीच कुछ वक्त के लिए बंद कर दिया गया था।

बता दें कि सावरकर बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह स्वतंत्रता सेनानी, वकील, लेखक होने के साथ और हिंदू विचारधारा के जनक माने जाते हैं। महाराष्ट्र में इस बार के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने संपल्प-पत्र में वीडी सावरकर को भारत रत्न दिलाने का वादा किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सुन्नी वक्फ बोर्ड पर भड़के कांग्रेस नेता राशिद अल्वी, बोले- सुप्रीम कोर्ट लगाए 5 करोड़ का जुर्माना
2 ‘सावरकर राष्ट्रभक्त नहीं थे क्या? मैं जब भी अंडमान जाता हूं, उस सेल में जाकर एक घंटे बैठता हूं’, केंद्रीय मंत्री बोले- कांग्रेस अपने ही घर में रखना चाहती है भारत रत्न
3 वोटिंग से पहले शिवसेना को अमित शाह की दो टूक- बीजेपी अपने दम ही बना सकती है महाराष्ट्र में सरकार
जस्‍ट नाउ
X