ताज़ा खबर
 

कोरोना वैक्सीन का टोटा: असम में दूसरा डोज लेने गए लोगों को भी लौटाया, ओड़िशा के 1500 में से 1000 टीका केंद्र बंद

कई राज्यों में वैक्सीन का टोटा हो गया है। असम में दूसरी डोज लेने गए लोगों को भी निराश घऱ लौटना पड़ा। वहीं ओडिशा में बी 1500 में से केवल 500 सेंटर पर ही टीकाकरण हो रहा है।

Author Edited By अंकित ओझा गुवाहाटी/भुवनेश्वर | Updated: April 14, 2021 4:32 PM
corona vaccine, corona virusनई दिल्ली के एक कोविड सेंटर पर मरीज के हालचाल लेता कर्मचारी। फोटो- पीटीआई

देश में कोरोना तेजी से पैर पसार रहा है और दूसरी तरफ एक मात्र सहारा वैक्सीन का भी टोटा हो गया है। असम में तो दूसरा डोज लेने गए लोगों को भी निराश घर लौटना पड़ा। राज्य में सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में वैक्सीन का स्टॉक देर से पहुंचा। ऐसे में वैक्सीन की दूसरी डोज लेने गए लोग बैरन लौटा दिए गए।

राज्य में वैक्सिनेशन विभाग के प्रवक्ता ने कहा, जिन लोगों को दूसरा डोज लेना है, उन्हें प्रायॉरिटी दी जा रही है। हालांकि पहली डोज भी लोगों को उपलब्ध करवाई जा रही है। उन्होंने कहा कि पहली डोज वालों के लिए वैक्सिनेशन रोकने का कोई प्लान नहीं है। असम में डुमडुमा के रहने वाले जौहर चौधरी ने बताया कि वह मंगलवार को वैक्सीन की दूसरी डोज लेने गए थे लेकिन उन्हेंने निराश होकर घर लौटना पड़ा। उन्हें अगले सोमवार को आने के लिए कहा गया है।

ओडिशा में भी वैक्सीन का टोटा

ओडिशा की बात करें तो रिपोर्ट के मुताबिक 11 जिलों में वैक्सीन की डोज नहीं दी जा सकी। राज्य में 1500 में से 1000 वैक्सिनेशन सेंटर पर ताला पड़ा रहा। 19 जिलों में केवल 495 जगहों पर टीका लगाया गया। ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पहले भी केंद्र सरकार से कह चुके हैं कि अगर वैक्सीन का पर्याप्त स्टॉक नहीं उपलब्ध करवाया गया तो कई जगहों पर टीकाकरण बंद हो जाएगा।

बंगाल में भी वैक्सीन की किल्लत

पश्चिम बंगाल में चुनावी रैलियों में भारी भीड़ दिखाई दे रही है। लोगों को कोरोना का ध्यान ही नहीं रहता। लेकिन यहां के वैक्सिनेशन सेंटर पर जाते ही असलियत का पता लग जाता है। कलकत्ता में भी बहुत सारे लोगों को टीका केंद्र से वापस आना पड़ा। लोगों से कहा गया कि वैक्सीन का लॉट आने के बाद ही उन्हें दूसरी डोज दी जा सकेगी। कोमॉरबिडिटी और ज्यादा उम्र वाले बहुत सारे लोग वैक्सिनेशन सेंटर पर दूसरी डोज के लिए पहुंचे थे।

राज्य प्रशासन ने कहा कि जो लोग पहली डोज के लिए आ रहे हैं उन्हें केवल कोवैक्सीन की डोज दी जाए। इसके अलावा दूसरी डोज के लिए आने वाले लोगों को कोविशील्ड दिया जाए। बता दें कि जिन लोगों को 1 मार्च को वैक्सीन दी गई थी, वे अब 42 दिन बाद दूसरी डोज के लिए टीका केंद्र पर पहुंच रहे हैं।

Next Stories
1 261 साल पुराने स्टोर को जीवनदान देंगे मुकेश अंबानी, कई देशों तक पहुंचाएंगे खिलौने
2 मोदी और राहुल गांधी में क्या फर्क? प्रशांत किशोर बोले- ज़मीन आसमान का अंतर, हर कोई नहीं बनता पीएम
3 MSME बोर्ड में भर दिए गए ‘भाजपाई’, पूर्व विधायक और RSS से जुड़े लोगों को मिले पद
यह पढ़ा क्या?
X