टीकाकरण धीमा चल रहा है- बोले FM सीतारमण के पति; पर केंद्र का दावा- वैक्सिनेशन अभियान में भारत दुनिया में सबसे तेज

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति परकला प्रभाकर ने नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना की है। प्रभाकर ने कहा कि सरकार मदद करने की जगह हेडलाइन मैनेज कर रही है। अर्थशास्त्री परकला प्रभाकर ने कहा कि जो आंकड़े नए केस और मौतों के सामने आ रहे हैं, वो भी कम करके बताए जा रहे हैं।

Dr.Parkala Prabhakar, covid-19, Vaccination, Modi government, Corona managementवित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति डॉ. परकला प्रभाकर (फोटोः स्क्रीनशॉट यूट्यूब वीडियो)

कोरोना संकट कहर बनकर टूटा है। यहां वहां लोग ऑक्सीजन, दवाओं की कमी से मर रहे हैं। उधर, सरकार वैक्सीन और टीकाकरण के लेकर अपनी पीठ थपथपाते नहीं अघा रही है। पीएम टीका उत्सव मनाने की बात करते हैं। पीएम की मानें तो देश टीके के मामले में दुनिया में सबसे तेज काम कर रहा है, लेकिन उनकी कैबिनेट मंत्री निर्मला सीतारमण के पति की सुनें तो स्थिति खराब है।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति परकला प्रभाकर ने नरेंद्र मोदी सरकार की आलोचना की है। प्रभाकर ने कहा कि सरकार मदद करने की जगह हेडलाइन मैनेज कर रही है। अर्थशास्त्री परकला प्रभाकर ने कहा कि जो आंकड़े नए केस और मौतों के सामने आ रहे हैं, वो भी कम करके बताए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अस्पतालों के इंचार्ज डॉक्टरों के मुताबिक, स्थिति बदतर हो रही है।

देश में कोरोना वायरस के आंकड़ों में एक बार फिर रिकॉर्ड तोड़ उछाल देखने को मिला है। पिछले 24 घंटों में 3.52 लाख नए कोविड केस सामने आए हैं। देश में ऑक्सीजन और अस्पताल बेड्स की कमी है। मौतों की तादाद बढ़ती जा रही है। केंद्र सरकार के रवैये पर लोग और विपक्ष सवाल उठा रहे हैं, लेकिन अब वित्त मंत्री के पति ही मोदी पर सीधा निशाना साध रहे हैं। यानी विपक्ष और लोग गलत नहीं हैं।

प्रभाकर का कहना है कि पीएम केवल अपनी इमेज को लेकर फिक्रमंद हैं। सरकार कुछ इस तरह से अभियान चला रही है मानो संसार में सबसे अच्छा काम कर रही हो, अलबत्ता हालात इससे बिलकुल उलट हैं। धरातल पर तेजी से स्थिति बिगड़ती जा रही है और सरकार उसे मैनेज करने में पूरी तरह से नाकाम है।

उधर, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के तहत देश में अब तक कोविड-19 टीके की कुल 14.9 खुराकें दी जा चुकी हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि 25 अप्रैल को अभियान का 100वां दिन पूरा हो गया। मंत्रालय ने कहा, भारत केवल 99 दिन में कोविड-19 रोधी टीके की 14 करोड़ खुराक देकर दुनिया में सबसे तेज गति से ऐसा करने वाला देश बन गया है।

सुबह सात बजे की अंतिम रिपोर्ट के मुताबिक 20,44,954 सत्रों के माध्यम से कुल मिलाकार टीकों की 14,19,11,223 खुराकें दी जा चुकी हैं। इनमें 92,98, 092 स्वास्थ्य कर्मी शामिल हैं। इन्हें पहली खुराक दी गई और 60 लाख स्वास्थ्य कर्मियों को दूसरी खुराक दी गई। इसके अलावा अग्रिम मोर्चे के 1,19,87,192 कर्मियों को पहली और 63,10,273 कर्मियों को दूसरी खुराक दी गई है।

60 वर्ष से अधिक आयु के 4,98,72,309 लोगों को पहली और 79,23,295 लोगों को दूसरी खुराक दी जा चुकी है जबकि 45 से 60 वर्ष के आयुवर्ग के 4,81,08,293 को टीके की पहली खुराक और 24,03,633 लाभार्थियों को दूसरी खुराक दी जा चुकी है। मंत्रालय ने कहा कि देश में अब तक दिए गए कुल टीकों में से 58.7 प्रतिशत टीके महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, गुजरात, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, मध्य प्रदेश और केरल में हैं। पिछले 24 घंटों में टीके की करीब 10 लाख खुराकें दी गई हैं।

Next Stories
1 ऑक्सीजन सप्लाई में कोई भी रुकावट सैकड़ों इंसानों की ज़िंदगी को खतरे में डाल देगी: दिल्ली हाईकोर्ट
2 कोरोनाः कर्नाटक में 14 दिन का कोविड कर्फ्यू, सुबह 10 बजे के बाद नहीं खुलेगी कोई दुकान, 34 हजार मरीज मिलने से हड़कंप
3 योगी आदित्यनाथ रखते थे 1 लाख रुपए की रिवॉल्वर; देखें- हथियार रखने पर क्या कही थी बात
यह पढ़ा क्या?
X