ताज़ा खबर
 

उत्‍तराखंड: केंद्र ने बताया- हरीश रावत ने साबित किया बहुमत, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- राष्‍ट्रपति शासन हटेगा

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा- काश, न्यायपालिका उत्तराखंड की तरह अरुणाचल प्रदेश को लेकर भी बेबाक रहती। लोकतंत्र के लिए जश्न है और हरीश रावत को बधाई।

Author नई दिल्ली | May 11, 2016 12:58 PM
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी। (पीटीआई फाइल फोटो)

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को जानकारी दी है कि उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री हरीश रावत ने विधानसभा में बहुमत साबित कर दिया है। इसके बाद कोर्ट ने कहा कि अब राज्‍य में राष्‍ट्रपति शासन नहीं रहेगा। कोर्ट ने 11 मई को सुनवाई के दौरान यह बात कही। इससे पहले 10 मई को कोर्ट के आदेश पर ही उत्‍तराखंड विधानसभा में शक्ति परीक्षण हुआ था।

READ ALSO: उत्‍तराखंड: शक्‍त‍ि परीक्षण में जीते हरीश रावत, केंद्र ने हटाया राष्‍ट्रपति शासन

सोनिया गांधी ने बताया ‘लोकतंत्र की जीत’

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उत्तराखंड में मंगलवार (10 मई) को हुए उस शक्ति परीक्षण को लोकतंत्र की जीत करार दिया जिसमें उनकी पार्टी की जीत पक्की मानी जा रही है। सदन के भीतर शक्ति परीक्षण के बाद सोनिया ने कहा कि यह लोकतंत्र की जीत है। शक्ति परीक्षण के नतीजे का एलान बुधवार (11 मई) को सुप्रीम कोर्ट की ओर से किया जाएगा। इसे मोदी सरकार के लिए स्पष्ट रूप से झटका माना जा रहा है जिसने राज्य सरकार को बर्खास्त कर दिया था और 28 मार्च को राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया था।

HOT DEALS
  • Lenovo K8 Plus 32GB Venom Black
    ₹ 8925 MRP ₹ 11999 -26%
    ₹446 Cashback
  • Lenovo Phab 2 Plus 32GB Champagne Gold
    ₹ 17999 MRP ₹ 17999 -0%
    ₹900 Cashback

कांग्रेस प्रवक्ता और वरिष्ठ वकील अभिषेक सिंघवी ने संवाददाताओं से कहा- हमारे पास प्रफुल्लित होने का कारण हो सकता है। उन्होंने तुरंत यह भी कहा कि अंतिम निर्णय बुधवार को सुप्रीम कोर्ट द्वारा घोषित होना है। सिंघवी ने कहा कि कांग्रेस का आकलन विधायकों के मौखिक उत्तर, सदन में जिस तरह वे बैठे थे और मीडिया की खबरों पर आधारित है। उन्होंने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि राजनीतिक प्रक्रिया ने अपना काम कर दिया है। अगर हम जीतते हैं तो यह साबित हो जाएगा कि राजनीतिक दुस्साहस बहुत बड़ी गलती के बराबर है।

सिंघवी ने इस सवाल को टाल दिया कि क्या विश्वास मत जीतने के बाद हरीश रावत विधानसभा भंग कर नए सिरे से चुनाव कराएंगे। पार्टी के कई नेता इस तरह के कदम की पैरवी कर रहे हैं। उनकी दलील है कि लोगों के पास लोकतंत्र की हत्या की बात को लेकर जाने से पार्टी को मदद मिल सकती है।

केंद्र पर कटाक्ष करते हुए सिंघवी ने कहा कि सवाल पूछे जाएंगे क्या यह सत्ता का अहंकार था। क्या यह लोगों को विचलित करने का प्रयास था? उन्होंने यह भी कहा कि बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में जो भी फैसला होगा, यह स्पष्ट है कि आज लोकतंत्र की जीत हुई है।

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा- काश, न्यायपालिका उत्तराखंड की तरह अरुणाचल प्रदेश को लेकर भी बेबाक रहती। लोकतंत्र के लिए जश्न है और हरीश रावत को बधाई। न्यायपालिका ने हमारे लोकतंत्र को बचाया है। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा को देश से माफी मांगनी चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App