‘मनहूसियत’ को दरकिनार कर धामी ने किया सीएम हाउस में प्रवेश, अब तक एक का भी कार्यकाल पूरा नहीं

विजय बहुगुणा से लेकर त्रिवेंद्र सिंह रावत तक कोई मुख्यमंत्री अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर सका और उसकी समय से पहले ही पद से विदाई हो गई। हांलांकि, यह भी दिलचस्प है कि मुख्यमंत्री आवास में रहने से परहेज करने वाले हरीश रावत और तीरथ सिंह रावत भी लंबे समय तक पद पर नहीं बने रह पाए।

Uttarakhand, CM Dhami, Entered CM House, Uttarakhand Government
उत्तराखंड में बीजेपी विधायक दल के नेता चुने जाने के बाद देहरादून स्थित पार्टी दफ्तर से बाहर आने के बाद अभिभावन स्वीकारते पुष्कर सिंह धामी। (फोटोः पीटीआई)

मनहूसियत’ को दरकिनार करते हुए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सावन के पहले सोमवार को विधिवत पूजा-पाठ के बाद न्यू कैंट रोड स्थित मुख्यमंत्री आवास में ‘गृहप्रवेश’ किया। एक दशक पहले बना मुख्यमंत्री का आधिकारिक आवास वहां रहने वाले मुख्यमंत्रियों के लिए ‘मनहूस’ माना जाता है क्योंकि वहां रहने वाला कोई भी मुख्यमंत्री अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर सका।

विजय बहुगुणा से लेकर त्रिवेंद्र सिंह रावत तक कोई मुख्यमंत्री अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर सका और उसकी समय से पहले ही पद से विदाई हो गई। हांलांकि, यह भी दिलचस्प है कि मुख्यमंत्री आवास में रहने से परहेज करने वाले हरीश रावत और तीरथ सिंह रावत भी लंबे समय तक पद पर नहीं बने रह पाए। हरीश रावत 2017 में हुए विधानसभा चुनावों में हारकर सत्ता से बाहर हो गए। इसी वर्ष मार्च में मुख्यमंत्री बने तीरथ सिंह रावत ने मुख्यमंत्री आवास में रहने की बजाय उसे कोविड केयर सेंटर के रूप में तैयार करने की घोषणा की लेकिन चार माह से भी कम समय में उनकी विदाई हो गई ।

धामी ने पहले मुख्यमंत्री आवास परिसर में स्थित शिव मंदिर में पूजा अर्चना की और गौशाला में गौमाता से आशीर्वाद लिया। उसके बाद अपने परिवार के साथ विधि -विधान से पूजा कर उन्होंने ‘गृह प्रवेश’ किया। सीएम ने कहा-वो हमेशा वर्तमान में जीने में विश्वास करते हैं। न तो कभी भूतकाल की चिंता की और न ही उसका कभी प्रायश्चित किया।

सीएम आवास में प्रवेश से पहले उसका वास्तु दोष निवारण भी किया गया। मुख्यमंत्री आवास में पूजा कराने वाले पंडितों ने कहा कि मंत्रों में बहुत शक्ति है और अगर किसी स्थान पर वास्तुदोष हो तो उसे मंत्रों और पूजा के जरिए ठीक किया जा सकता है। धामी के सरकारी आवास में प्रविष्ट होने पर राज्यपाल बेबीरानी मौर्य और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मदन कौशिक ने उन्हें बधाई दी है । राज्यपाल ने मुख्यमंत्री से भेंटकर उन्हें इस अवसर पर शुभकामनाएं दीं।

गौरतलब है कि 45 साल के पुष्कर सिंह धामी ने तीरथ सिंह की जगह उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। वे राज्य के सबसे कम उम्र के मुख्यमंत्री हैं। मुख्यमंत्री के बाद सतपाल महाराज, हरक सिंह रावत, डॉ. धन सिंह रावत, बंशीधर भगत, यशपाल आर्य, सुबोध उनियाल, अरविंद पांडेय, बिशन सिंह, गणेश जोशी, रेखा आर्य और यतीश्वरानंद ने मंत्री पद की शपथ ली। ये सभी पहले भी मंत्रिमंडल में शामिल थे।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट