ताज़ा खबर
 

यूपीः अब योगी आदित्यनाथ कैबिनेट ने गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण के प्रस्ताव को दी मंजूरी

यूपी से पहले झारखंड और गुजरात में गरीबों को सरकारी नौकरी व शिक्षा में 10 फीसदी आरक्षण के प्रस्ताव को हरी झंडी दी गई थी।

Author January 18, 2019 5:32 PM
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ। (फोटोः पीटीआई)

उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की सरकार ने शुक्रवार (18 जनवरी, 2019) को गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण देने वाले प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। यानी अब सूबे में गरीब सवर्णों को सरकारी नौकरी और शिक्षा में 10 फीसदी आरक्षण का लाभ मिलेगा। सूबे की राजधानी लखनऊ में सीएम योगी की अध्यक्षता में हुई राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक में यह महत्वपूर्ण फैसला लिया गया।

बैठक के बाद राज्य सरकार के प्रवक्ता उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने पत्रकारों से कहा, “केंद्र सरकार द्वारा 12 जनवरी 2019 को जारी अधिसूचना के जरिए भारत के संविधान में संशोधन करते हुए सरकारी सेवाओं की सभी श्रेणियों में नियुक्ति और सरकारी शैक्षणिक संस्थानों में प्रवेश के लिए आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों (गरीब सवर्णों) के लिए अधिकतम 10 प्रतिशत का आरक्षण अनुमोदित किया गया है।”

बकौल शर्मा, “यूपी सरकार, भारत सरकार द्वारा निर्गत गजट अधिसूचना का अनुपालन करेगी। बिना किसी के आरक्षण को छ़ेडे हुए, सामान्य वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण की जो व्यवस्था केंद्र सरकार ने की है, उस पर यूपी कैबिनेट ने मुहर लगाई है।”

शर्मा ने इसे ‘सबसे बड़ा फैसला’ करार देते हुए एक सवालों के जवाब में कहा, “व्यावहारिक रूप से सहमति दे दी है। आगे की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। सैद्धांतिक रूप से स्वीकृति दे दी गई है।” बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की सरकार के गरीब सवर्णों को सरकारी नौकरी व शिक्षा में 10 फीसदी आरक्षण देने के फैसले के बाद क्रमशः गुजरात और झारखंड ने इससे जुड़े प्रस्ताव अपने-अपने राज्य में पास किए थे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण देने के लिए योगी सरकार के आलाधिकारी इससे पहले केंद्र सरकार और गुजरात सरकार के आरक्षण संबंधी फॉर्मुले से गुजरे थे। उनके अध्ययन करने के बाद ही इसे सूबे में लागू करने को लेकर निर्णय लिया गया है।

(भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App