ताज़ा खबर
 

गुजरात चुनाव से पहले भी चीफ सेक्रेटेरी को बनाया गया था चुनाव आयुक्त, नए EC अनूप पांडे ने आदित्य नाथ सरकार में गौ-कल्याण योजना को कराया था लागू

नए चुनाव आयुक्त की नियुक्ति पर एक बार फिर विवाद हो गया है और कई लोगों ने इस फैसले का विरोध किया है। वर्ष 1984 बैच के आईएएस अधिकारी रहे पांडेय निर्वाचन आयोग में आने से पहले राष्ट्रीय हरित अधिकण निगरानी समिति (उप्र) के सदस्य थे।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय ने चुनाव आयुक्त का पदभार संभाला। (Photo: Twitter/@Anupchandra_IAS)

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय ने बुधवार को नई दिल्ली स्थित निर्वाचन सदन कार्यालय में चुनाव आयुक्त का पदभार संभाल लिया। पांडेय आयोग में दो निर्वाचन आयुक्तों में से एक हैं। उनके अलावा राजीव कुमार भी निर्वाचन आयुक्त हैं। सुशील चंद्रा मुख्य निर्वाचन आयुक्त हैं।

नए चुनाव आयुक्त की नियुक्ति पर एक बार फिर विवाद हो गया है और कई लोगों ने इस फैसले का विरोध किया है। वर्ष 1984 बैच के आईएएस अधिकारी रहे पांडेय निर्वाचन आयोग में आने से पहले राष्ट्रीय हरित अधिकण निगरानी समिति (उप्र) के सदस्य थे। उनके उत्तर प्रदेश का मुख्य सचिव रहने के दौरान प्रयाग राज में कुंभ मेले और राज्य में प्रवासी भारतीय दिवस का आयोजन किया गया था। वह उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विकास आयुक्त भी रह चुके हैं।

इसके अलावा योगी आदित्यनाथ की गाय कल्याण योजना को आक्रामक रूप से लागू करने में उनका अहम योगदान था। 30 जून, 2018 को मुख्य सचिव बनने वाले पांडे ने उत्तर प्रदेश में 37 वर्षों तक सेवा की थी और राज्य के लगभग हर हिस्से में किसी न किसी पद पर तैनात थे।

अनूप चंद्र पांडेय को मंगलवार को निर्वाचन आयुक्त नियुक्त किया गया। वह फरवरी, 2024 में 65 साल की आयु पूरा होने पर निर्वाचन आयोग की सेवा से मुक्त होंगे। सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण से लेकर सीपीआई (एमएल) नेता दीपांकर घोष समेत कई लोगों ने इस फैसले का विरोध किया है।

प्रशांत भूषण ने ट्वीट कर लिखा “जब चुनाव आयुक्त के चुनाव के लिए कॉलेजियम की हमारी माँग पर सुनवाई तक नहीं हो रही है तब सरकार ने एकतरफा फैसला लेते हुए आदित्यनाथ के चुने हुए व्यक्ति को चुनाव आयुक्त बना दिया है। इस सरकार में सभी नियामक संस्थाओं को नुकसान पहुंचाया जा रहा है।

वहीं दीपांकर घोष ने लिखा “उत्तर प्रदेश चुनाव 2022 से पहले, रिटायर्ड यूपी काडर आईएएस अनूप चंद्र पांडेय को चुनाव आयुक्त के रूप में नियुक्त किया गया है। तीन साल पहले योगी आदित्यनाथ ने पांडेय को उत्तर प्रदेश के चीफ सेक्रेटरी (30 जून 2018 – 31 अगस्त 2019) पद के लिए चुना था। 2024 के लोकसभा चुनाव भी उनके नेतृत्व में होने की संभावना है।”

यह पहली बार नहीं है जब किसी राज्य के विधानसभा चुनाव से पहले वहां के चीफ सेक्रेटेरी को चुनाव आयुक्त बनाया गया हो। इससे पहले गुजरात के मुख्य सचिव अचल कुमार जो को 2015 में चुनाव आयुक्त नियुक्त किया गया था। 2017 के गुजरात चुनाव उनकी निगरानी में आयोजित किए गए थे और उन पर भाजपा नेताओं के खिलाफ शिकायतों की अनदेखी के आरोप भी लगे थे। जोती 2-18 में रिटायर हो गए हैं।

Next Stories
1 टिकैत से मुलाकात के बाद बोलीं ममता, मोदी सरकार संवेदनहीन, इसे उखाड़ फेंकेंगे
2 रामदेव को झटकाः नेपाल ने रोका पतंजलि की कोरोनिल टेबलेट्स का डिस्ट्रीब्यूशन
3 कोरोनाः परिजन के संक्रमित होने पर केंद्रीय कर्मी को मिलेगी 15 दिन की स्पेशल कैजुअल लीव
ये  पढ़ा क्या?
X