ताज़ा खबर
 

मोदी की रैली के लिए ट्रेन बुक करने वाले बीजेपी नेता ने कहा-पार्टी नहीं भर रही 12.29 लाख, कर लूंगा सुसाइड

लखनऊ में 2 मार्च 2014 को नरेंद्र मोदी की रैली में पार्टी वर्करों को ले जाने के लिए बीजेपी ने ट्रेन बुक की थी। ट्रेन फतेहपुर सीकरी से लखनऊ और लौटने के लिए बुक की गई थी।

Author लखनऊ | March 17, 2016 4:37 PM
विनोद समारिया 2007 से 2009 के बीच फतेहपुर शहर ईकाई के बीजेपी अध्‍यक्ष थे।

रेल मंत्रालय ने बीजेपी को कई बार नोटिस भेजकर 12.29 लाख रुपए का बकाया चुकाने को कहा है। लखनऊ में 2 मार्च 2014 को नरेंद्र मोदी की रैली में पार्टी वर्करों को ले जाने के लिए बीजेपी ने ट्रेन बुक की थी। इसी के बकाए की रकम के लिए रेल मंत्रालय बीजेपी को कई बार नोटिस भेज चुका है। ट्रेन फतेहपुर सीकरी से लखनऊ और लौटने के लिए बुक की गई थी।

नॉर्थ सेंट्रल रेलवे के आगरा डिविजन ने 14 मार्च को बीजेपी लीडर विनोद समारिया को ताजा नोटिस भेजा है। विनोद ने पार्टी की ओर से 19 बोगियों वाली ट्रेन बुक कराई थी। इससे पहले, रेलवे ने पिछले साल 13 जुलाई और एक दिसंबर को जबकि 2014 में 11 मार्च को नोटिस भेजा था। समारिया का आरोप है कि सीनियर बीजेपी लीडर रेलवे को रकम चुकाने से इनकार कर रहे हैं। समारिया ने अब धमकी दी है कि अगर रेलवे ने उनकी प्रॉपर्टी अटैच करने से जुड़ा नोटिस भेजा तो वे आत्‍महत्‍या कर लेंगे। बता दें कि विनोद समारिया 2007 से 2009 के बीच फतेहपुर शहर ईकाई के बीजेपी अध्‍यक्ष थे।

समारिया ने कहा, ”मैं एक किसान हूं और मैं 12.29 लाख रुपए जितनी बड़ी रकम चुकाने में समर्थ नहीं हूं। शुरुआती 18.39 लाख रुपए की रकम पार्टी फंड से चुकाया गया। इसके बाद, पार्टी नेताओं को बार बार निवेदन करने के बावजूद बस आश्‍वासन मिला।” समारिया ने यह भी दावा किया कि वे इस रकम के सेटलमेंट के लिए रेल मंत्री सुरेश प्रभु से भी मिले, लेकिन उन्‍होंने दखल देने से इनकार कर दिया।

समारिया के मुताबिक, ”शुरुआती बुकिंग की रकम 18.4 लाख रुपए थी। इसमें पांच लाख रुपए का सिक्‍युरिटी डिपॉजिट भी शामिल था। रेलवे अधिकारियों ने बाद में बिल को बढ़ाकर 30.68 लाख रुपए कर दिया क्‍योंकि पार्टी कार्यकर्ताओं को लेने के लिए ट्रेन के रूट में किरावली, मिधाकुर, पठौली और इत्‍मादपुर स्‍टेशन जोड़ दिए गए। जब मैंने सिक्‍युरिटी डिपॉजिट को वापस पाने की कोशिश की तो मुझे इस बकाए के बारे में पता चला। मैं बीजेपी के सीनियर लीडर्स से मिला, जिन्‍होंने मुझे भरोसा दिलाया कि मेरे खिलाफ कोई एक्‍शन नहीं होगा क्‍योंकि केंद्र में अपनी सरकार थी। पार्टी ने भरोसा दिलाया कि रकम इस साल 31 मार्च से पहले चुका दी जाएगी। लेकिन रेलवे की ओर से मुझे फिर से 14 मार्च को नोटिस मिला है। अगर पार्टी यह रकम नहीं चुकाती तो रेलवे के अफसर मेरी संपत्‍त‍ि जब्‍त करने का नोटिस जारी कर सकते हैं। मेरे पास खुदकुशी के अलावा कोई और रास्‍ता नहीं बचा है।”

क्‍या कहना है बीजेपी और रेलवे का
इस बारे में सपर्क करने पर बीजेपी सांसद और पार्टी के कोषाध्‍यक्ष्‍स राजेश अग्रवाल ने कहा कि उन्‍हें इस तरह के बकाए के बारे में कोई जानकारी नहीं है। कहा कि उनसे इस तरह के बकाए को लेकर कोई संपर्क नहीं किया गया। हालांकि, उन्‍होंने यह भी कहा ”पार्टी जल्‍द ही रेलवे को बकाए का भुगतान करेगी और यह सुनिश्‍चित करेगी पार्टी वर्कर समारिया के खिलाफ किसी तरह की कोई कानूनी कार्रवाई न हो।” एनसीआर आगरा डिवीजन के डीसीएम नीरज भटनागर ने कहा कि रेलवे बकाए के भुगतान के लिए बीते दो साल से नोटिस भेज रही है, लेकिन बीजेपी नेता ने भुगतान नहीं किया। उन्‍होंने यह भी कहा कि बीजेपी नेताओं ने अतिरिक्‍त स्‍टॉपेज बढ़वाए, जिसकी वजह से किराया बढ़ गया। भटनागर ने यह भी कहा, ”इस मामले में भविष्‍य में और भी रिमाइंडर भेजे जाएंगे। हालांकि, बकाए की वसूली के लिए प्रॉपर्टी जब्‍त करने से जुड़े कोई नोटिस भेजने को लेकर फैसला नहीं हुआ है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App