यूपीः मैनपुरी के स्कूल में दलित बच्चों के बर्तन दूसरों से रखे जाते थे अलग, मिड डे मील के बाद करने पड़ते थे खुद साफ

एक शिकायत के बाद अधिकारियों ने स्कूल का हालचाल लिया तो पता चला कि मिड डे मील के लिए जिन बर्तनों का इस्तेमाल दलित समुदाय के बच्चे करते थे, उन्हें अलग रखा जाता था। खाने के बाद ये बच्चे खुद अपने बर्तन साफ करते थे।

Uttar Pradesh, Mainpuri district, Daudapur Government Primary School, Utensils of SC children, Yogi government
मिड डे मील के बाद दलित समुदाय के बच्चे खुद अपने बर्तन साफ करते थे। (फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

उत्तर प्रदेश के मैनपुरी जिले के दाउदपुर सरकारी प्राथमिक विद्यालय में 80 में से साठ बच्चे अनुसूचित जाति के हैं। लेकिन एक शिकायत के बाद अधिकारियों ने स्कूल का हालचाल लिया तो पता चला कि मिड डे मील के लिए जिन बर्तनों का इस्तेमाल दलित समुदाय के बच्चे करते थे, उन्हें अलग रखा जाता था। खाने के बाद ये बच्चे खुद अपने बर्तन साफ करते थे। फिलहाल प्रधानाध्यापिका गरिम राजपूत को निलंबित कर दिया गया है। दो रसोइयों को भी काम से हटाया जा चुका है। उन्होंने कहा था कि वो अनुसूचित जाति के छात्रों द्वारा उपयोग किए जाने वाले बर्तनों को हाथ नहीं लगा सकते थे।

मैनपुरी के बेसिक शिक्षा अधिकारी बीएसए कमल सिंह ने कहा कि सरपंच मंजू देवी के पति की शिकायत को सही पाया गया। स्कूल में जातिगत भेदभाव किया जा रहा था। उन्होंने बताया कि बुधवार को इस बारे में शिकायत मिली थी। उसके बाद निरीक्षण के लिए एक टीम को स्कूल भेजा गया। अनुसूचित जाति और अन्य बच्चों के बर्तन अलग-अलग रखे जाते थे। टीम ने जब स्कूल का दौरा किया तो कुक सोमवती और लक्ष्मी ने अनुसूचित जाति के छात्रों के बर्तनों को छूने से इनकार कर दिया। उनका कहना था कि उन्हें ऐसा करने के लिए मजबूर किया गया तो वो काम करना छोड़ देंगे।

सरपंच के पति साहब सिंह ने कहा कि कुछ अभिभावकों ने उन्हें 15 सितंबर को इसके बारे में बताया था। 18 सितंबर को वह खुद स्कूल गए तो देखा कि रसोई गंदी थी। वहां 10-15 प्लेट रखी थीं। रसोइयों से बाकी थालियों के बारे में पूछा गया तो उन्होंने हैरतअंगेज करने वाली बात कही। उनका कहना था कि रसोई में जो थालियां थीं वो पिछड़े और सामान्य वर्ग के छात्रों की थीं। 50-60 थालियां अलग-अलग रखी गई थीं। उन्हें बताया गया था कि अनुसूचित जाति के छात्रों को अपने बर्तन धोने और रखने के लिए मजबूर किया जाता है, क्योंकि कोई भी उन्हें छूने को तैयार नहीं होता है। साहब सिंह ने बताया कि गांव की करीब 35 फीसदी आबादी दलित है।

मैनपुरी जिला पंचायत प्रमुख शुभम सिंह ने कहा कि उन्होंने गांव का दौरा किया था। बीजेपी दलित उत्थान के बड़े-बड़े दावे करती है। समुदाय के कुछ नेताओं को खुश करने के लिए पद दिए गए हैं लेकिन यह यूपी की सच्चाई है। दशकों बाद डॉ बीआर अंबेडकर को अपने स्कूल के दिनों में इस तरह के मुद्दों का सामना करना पड़ा था। शुभम समाजवादी पार्टी से हैं।

गौरतलब है कि अधिकारियों द्वारा कार्रवाई किए जाने के बाद से कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। इनमें दाउदपुर स्कूल के बच्चे अपनी थालियों को धोने के लिए हैंडपंप का उपयोग करते हैं। एक दलित अभिभावक ने कहा कि उन्होंने इस मुद्दे को उठाया था। वीडियो में माता-पिता कहते हैं कि यहां बच्चे आते हैं। यहां के शिक्षक दलित बच्चों से बर्तन धुलवाए जाते हैं। शिक्षक उन्हें ऐसा करने पर मजबूर करते हैं। उन्होंने शिक्षकों से कहा पर वो बात को अनसुना कर गए।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट