ताज़ा खबर
 

बिहार टॉपर्स घोटाला: पूर्व JDU MLA ने 12 साल की उम्र में ही कर लिया था ग्रेजुएशन, हलफनामे से हुआ खुलासा

बिहार बोर्ड के चेयरमैन लालकेश्‍वर प्रसाद सिंह की बीवी व पूर्व जेडीयू विधायक ऊषा सिन्‍हा खुलासे के बाद से ही फरार चल रही हैं।
Author नई दिल्‍ली | June 13, 2016 11:42 am
ऊषा बिहार बोर्ड में टॉपर्स को लेकर हुए खुलासे के बाद से ही फरार चल रही हैं।

बिहार टॉपर्स घोटाला मामले में नया खुलासा हुआ है। इस घोटाले के सामने आने के बाद से ही फरार चल रहीं पूर्व जेडीयू विधायक ऊषा सिन्‍हा के एजुकेशनल दस्‍तावेज फर्जी निकलने की आशंका है।

ऊषा मिश्रा ने 2010 के विधानसभा चुनाव में जो हलफनामा दिया था, वह बताता है कि उस वक्‍त उनकी उम्र 49 साल थी। इस हिसाब से देखें तो उन्‍होंने 1969 में महज 8 साल की उम्र में ही हाईस्‍कूल पास कर लिया था। उन्‍होंने 10 साल की उम्र में इंटरमीडिएट और 12 साल की उम्र में ग्रेजुएशन कंप्‍लीट किया था। अगले ही साल उन्‍होंने बीएड भी पूरा कर लिया। यही नहीं, महज 23 साल की उम्र में उन्‍होंने मगध यूनिवर्सिटी से पीएचडी भी पूरी कर डाली।

Usha SINHa

रविवार को फरार चल रहे बिहार बोर्ड के चेयरमैन लालकेश्‍वर प्रसाद सिंह के लिए काम कर रहे दो लोगों को हिरासत में लिया गया था। लालकेश्‍वर की पत्‍नी को बिना एफआईआर के ही आरोपी बनाया गया है। अरेस्‍ट किए गए लोगों के नाम अजीत और संदीप हैं, वे सरकारी कॉलेजों में पढ़ाते हैं। अब अरेस्‍ट किए गए लोगों की संख्‍या 8 हो गई है।

READ ALSO: बिहार टॉपर्स विवाद: शक के घेरे में आए बोर्ड चेयरमैन ने दिया इस्‍तीफा, चार पुलिस हिरासत में

एसएसपी ने बताया कि अजीत और संदीप लालकेश्‍वर सिंह के एजेंट के तौर पर काम कर रहे थे और सिंह की बीवी व पूर्व जेडीयू विधायक ऊषा सिन्‍हा के लगातार संपर्क में थे। ऊषा बिहार बोर्ड में टॉपर्स को लेकर हुए खुलासे के बाद से ही फरार चल रही हैं। अजीत और संदीप ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.