ताज़ा खबर
 

ट्रंप ने H-1B वीजा पर साल के अंत तक के लिए लगाई रोक, भारतीयों को झटका, पिचाई ने जताई चिंता

ट्रंप की इस घोषणा से गूगल और अल्फाबेट के सीईओ सुंदर पिचाई ने अपनी चिंता व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि सरकार के इस निर्णय से निराश हैं और अप्रवासियों के साथ खड़े रहेंगे।

H-1B, H-4 visasअमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (पीटीआई फोटो)

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारतीय आईटी पेशेवरों के बीच लोकप्रिय एच-1बी वीजा के साथ ही अन्य विदेश कार्य वीजा जारी करने पर इस साल के अंत तक रोक लगाने की आधिकारिक घोषणा की है। ट्रंप ने कहा कि यह कदम लाखों अमेरिकियों की मदद के लिए जरूरी है जिन्होंने मौजूदा आर्थिक संकट की वजह से नौकरियां गंवा दी हैं।

ट्रंप की इस घोषणा से गूगल और अल्फाबेट के सीईओ सुंदर पिचाई ने अपनी चिंता व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि सरकार के इस निर्णय से निराश हैं और अप्रवासियों के साथ खड़े रहेंगे। पिचाई ने एक ट्वीट में कहा कि आप्रवासन ने अमेरिका की आर्थिक सफलता में बहुत योगदान दिया है, जिससे यह तकनीक में ग्लोबल लीडर बना गया है। सरकार द्वारा आज की घोषणा से निराश हूं। हम अप्रवासियों के साथ खड़ें रहेंगे और सभी के लिए अवसरों का विस्तार करेंगे।

बता दें कि नवंबर में होने जा रहे राष्ट्रपति चुनाव से पहले आधिकारिक घोषणा जारी कर, ट्रंप ने विभिन्न संगठनों, सांसदों और मानवाधिकार निकायों द्वारा आदेश के खिलाफ बढ़ते विरोध को नजरअंदाज किया है। यह घोषणा 24 जून से प्रभावी होगी और इसका कई भारतीय आईटी पेशेवरों और कई अमेरिकी एवं भारतीय कंपनियों पर प्रभाव पड़ सकता है जिनको अमेरिकी सरकार ने एक अक्टूबर से शुरू हो रहे वित्त वर्ष 2021 के लिए एच-1बी वीजा जारी कर दिए थे।

Bihar, Jharkhand Coronavirus LIVE Updates

इन सभी को मुद्रांकन के लिए अमेरिकी कूटनीतिक मिशनों का रुख करने से पहले अब कम से कम मौजूदा वर्ष खत्म होने तक इंतजार करना पड़ेगा। यह घोषणा बड़ी संख्या में उन भारतीय आईटी पेशेवरों को भी प्रभावित करेगी जो अपने एच-1बी वीजा के नवीनीकरण की प्रतीक्षा में थे। ट्रंप द्वारा जारी इस आधिकारिक घोषणा में कहा गया, ‘हमारे देश की आव्रजन प्रणाली के प्रशासन में, हमें विदेशी र्किमयों से अमेरिकी श्रम बाजार पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में सचेत रहना चाहिए, खासकर उच्च घरेलू बेरोजगारी और श्रम के लिए दबी हुई मांग के वर्तमान के असाधारण माहौल को देखते हुए।’

इस घोषणा में ट्रंप ने कहा कि इस साल फरवरी से लेकर मई तक अमेरिका में कुल बेरोजगारी दर लगभग चार गुना हो गई जो श्रम सांख्यिकी ब्यूरो द्वारा दर्ज की गई बेहद खराब बेरोजगारी दरों में से एक है। (एजेंसी इनपुट)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 अब चीन ने जापान में सेनकाकू द्वीप पर जताया अपना दावा, कहा- ये हमारा हिस्सा
2 उकसाने में जुटा चीनी मीडिया, कहा- भारत और चीन में जंग अंडे के पत्थर से टकराने जैसा
3 बेहद तनावपूर्ण स्थिति में चीन-भारत, हम करेंगे मदद: डोनाल्ड ट्रंप
ये पढ़ा क्या?
X