ताज़ा खबर
 

विश्व परिक्रमा: ट्रंप ने 15 साल में सिर्फ पांच साल संघीय आयकर चुकाया?

वाइट हाउस में एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान ट्रंप ने इस खबर को फेक न्यूज (गलत खबर) बताकर खारिज करते हुए कहा था कि वे करों का भुगतान करते हैं हालांकि उन्होंने कोई विवरण नहीं दिया।

Author Updated: September 29, 2020 1:28 AM
राष्ट्रपति डोनॉल्ड ट्रंप ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को गलत बताया है।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप जिस वर्ष राष्ट्रपति पद की दौड़ में शामिल हुए और उसके बाद वाइट हाउस में अपने पहले वर्ष के दौरान उन्होंने संघीय आयकर के तौर पर महज 750 अमेरिकी डॉलर का भुगतान किया। न्यूयॉर्क टाइम्स में रविवार को प्रकाशित एक खबर में यह जानकारी दी गई है। अपने आयकर भुगतान को बेहद गोपनीय रखने वाले ट्रंप आधुनिक समय में एकमात्र राष्ट्रपति हैं जो इन्हें सार्वजनिक नहीं करते। अखबार की खबर के मुताबिक 15 साल में से 10 साल ट्रंप ने कोई संघीय आयकर अदा नहीं दिया। ये तब है जब उन्होंने राष्ट्रपति पद के लिये अपने अभियान के दौरान खुद को अरबपति रियल एस्टेट कारोबारी और सफल व्यवसायी के तौर पर पेश किया था।

वाइट हाउस में एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान ट्रंप ने इस खबर को फेक न्यूज (गलत खबर) बताकर खारिज करते हुए कहा था कि वे करों का भुगतान करते हैं हालांकि उन्होंने कोई विवरण नहीं दिया। न्यूयॉर्क टाइम्स का कहना है कि उसने दो दशक से ज्यादा के आयकर रिटर्न आंकड़ों को हासिल करने के बाद यह जानकारी निकाली है।

यह खुलासा उस अहम मौके से ठीक पहले हुआ है जब मंगलवार को राष्ट्रपति पद के उम्मीदवारों के बीच बहस (प्रेसीडेंशियल डिबेट) होनी है और कुछ हफ्तों बाद ही राष्ट्रपति पद के लिए डेमोक्रेटिक जो बाइडेन के साथ उनका निर्णायक मुकाबला होना है।

राष्ट्रपति ने कहा था कि उनके करों के बारे में जानकारी का ‘खुलासा किया जाएगा’। इस खुलासे के लिए लेकिन उन्होंने किसी समयसीमा का उल्लेख नहीं किया था और ऐसे ही वादे 2016 के प्रचार अभियान के दौरान भी किये थे हालांकि उनका बाद में कोई जिक्र नहीं किया। ट्रंप ने वास्तव में उनके आयकर रिटर्न की जानकारी चाहने वालों को अदालत में चुनौती दी थी, इनमें अमेरिकी सदन भी शामिल है जो संसदीय निगरानी के हिस्से के तौर पर ट्रंप के आयकर रिटर्न से जुड़ी जानकारी चाहता था।

ट्रंप ऑर्गनाइजेशन के वकील एलन गार्टन और ट्रंप ऑर्गनाइजेशन के एक प्रवक्ता ने एसोसिएटेड प्रेस के इस मामले पर टिप्पणी के अनुरोध पर कोई जवाब नहीं दिया।

गार्टन ने टाइम्स को बताया, ‘सारे नहीं तो भी अधिकतर तथ्य सटीक नहीं प्रतीक होते।’ उन्होंने समाचार संस्था को दिए एक बयान में कहा कि राष्ट्रपति ने ‘संघीय सरकार को व्यक्तिगत करों के तौर पर लाखों डॉलर दिए हैं और इनमें 2015 में उनकी उम्मीदवारी की घोषणा होने के बाद भी लाखों डॉलर व्यक्तिगत करों के तौर पर अदा किए गए।’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 आवश्यक वस्तु अधिनियम : क्या होगी तस्वीर, किसे होगा लाभ
2 शोध: कृषि को मिलेगी ‘सौर-वृक्ष’ की नई ऊर्जा
3 कृषि विधानों को निष्प्रभावी करने को कांग्रेस सरकारे ला सकती हैं नया कानून, सोनिया गांधी ने मुख्यमंत्रियों से कहा-संभावना पर करें विचार
ये पढ़ा क्या?
X