अमेरिका: यूनिवर्सिटी वीजा घोटाले में 129 भारतीय छात्र गिरफ्तार, विदेश मंत्रालय ने बताया छात्रों के साथ धोखा

हालांकि, भारत की तरफ से कहा गया है कि गिरफ्तार किए गए छात्रों को विश्वविद्यालय के फर्जी होने की जानकारी नहीं थी। अधिकारियों ने उन्हें फंसाया है।

प्रतीकात्मक तस्वीर

अमेरिका में 130 छात्रों को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार गिए गए स्टूडेंट्स में से 129 भारतीय हैं। इन सभी को पे एंड स्टे यूनिवर्सिटी वीजा घोटाले में गिरफ्तार किया गया है। इतनी बड़ी संख्या में गिरफ्तार हुए छात्रों के लिए अब विदेश मंत्रायल एक्टिव हो गया है। मंत्रालय का कहना है कि छात्रों को पता नहीं था कि विश्वविद्यालय अवैध और नाजायज तरीके से काम कर रहा था। यह उनके साथ धोखा है।

दरअसल, बताया जा रहा है कि यहां के छात्रों ने स्टूडेंट वीजा का गलत इस्तेमाल किया। छात्रों ने बिन क्लास किए रुकने का पैसा चुका दिया। दावा किया जा रहा है कि यह काम बीते काफी समय से चल रहा है। इसे पकड़ने के लिए फार्मिगंटन नाम की एक फर्जी यूनिवर्सिटी बनाई गई। इसके बाद यहां एडमिशन भी लिए गए। इसके बाद यहां दाखिला लेने वालों के वीजा की जांच हुई। जिसके बाद इसमें फर्जीवाड़ा सामने आने पर गिरफ्तारी हुईं।

हालांकि, भारत की तरफ से कहा गया है कि गिरफ्तार किए गए छात्रों को विश्वविद्यालय के फर्जी होने की जानकारी नहीं थी। अधिकारियों ने उन्हें फंसाया है। उन्होंने गिरफ्तार करने के तरीके पर भी सवाल उठाए है। लेकिन सरकारी अधिकारियों का कहना है कि सभी छात्र जानबूझकर इस फर्जीवाड़े में शामिल हुए हैं, उन्हें अच्छे से पता था कि यहां कोई शैक्षणिक कार्यक्रम नहीं चलेंगे। पूरे देश से ऐसा करने वालों को गिरफ्तार किया जा रहा है।

मामले की गंभीरता को देखते हुए अब भारतीय विदेश मंत्रालय भी सक्रीय हो गया है। छात्रों की मदद के लिए 24/7 हॉटलाइन शुरू की है। दो नंबरों 202-322-1190 और 202-340-2590 को जारी करते हुए बताया गया कि भारतीय दूतावास के दो वरिष्ठ अधिकारी मदद के लिए चौबीस घंटे उपलब्ध रहेंगे। इसके अलावा एक मेल आईडी भी जारी की गई है। गिरफ्तार छात्र या उनके परिवार के सदस्य cons3.washington@mea.gov.in पर दूतावास से संपर्क कर सकते हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट