ताज़ा खबर
 

उरी हमला: आतंकियों के गाइड नहीं थे पकड़े गए पाकिस्‍तानी छात्र, छेड़खानी के बाद पिटाई से बचने के लिए पार किया बॉर्डर

दोनों के खिलाफ भारतीय सेना को दिए गए बयान के अलावा कोई और पुख्ता सबूत नहीं मिल पाए।

India Pakistan Relations, Indo pak 2016, Pathankot Attack, Uri attackउरी हमले में सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे। (फाइल फोटो)

पिछले साल सितंबर में देश को हिला देने वाले उरी हमले को अंजाम देने वाले आतंकियों के कथित गाइड, पाकिस्‍तान से भागे हुए स्‍कूली छात्र हैं। एनआईए के एक अधिकारी ने एचटी से बातचीत में बताया कि दोनों पाकिस्‍तानी किशोर एक लड़की को छेड़ने के बाद उसके घरवालों द्वारा पिटाई किए जाने के डर से सीमा पार कर जम्‍मू-कश्‍मीर में प्रवेश कर गए थे। पीओके के फैजल हुसैन अवान और अहसान खुर्शीद पर पिछले साल 18 सितंबर को आर्मी कैंप में हुए हमले में आतंकियों की मदद करने का आरोप था। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) इस मामले में 8 मार्च को कश्‍मीर की एक अदालत में क्लोजर रिपोर्ट दाखिल करेगी। एनआईए के पुख्ता सबूत नहीं जुटा पाने की वजह से यह फैसला लिया गया है। दोनों 18 सितंबर को हुए हमले के दो दिन बाद, भारत में घुसे थे। गांववालों ने लड़कों की पिटाई की और उसके बाद आर्मी को सौंप दिया गया था। एजेंसी ने दोनों के खिलाफ जांच रिपोर्ट बंद करने का फैसला किया है। दोनों के खिलाफ भारतीय सेना को दिए गए बयान के अलावा कोई और पुख्ता सबूत नहीं मिल पाए।

सेना द्वारा पिटाई के डर से दोनों ने दावा किया उनसे जैश-ए-मोहम्‍मद ने उरी के हमलावरों को भारत में घुसने में मदद करने को कहा था। एनआईए अधिकारी ने एचटी से कहा, ”वे बेहद डरे हुए थे। एनआई कस्‍टडी के शुरुआती सात दिनों में, वे यही कहते रहे कि वे उरी हमलावरों को लाने वाले गाइड्स हैं। उन्‍होंने हमें बताया कि किस तरह पहले भी वह हमलावरों को लेकर आए थे। हमने उनके बयान वीडियो-रिकॉर्ड किए हैं।” इन्‍हीं बयानों के आधार पर एनआईए ने कहा था कि ये लड़के उरी हमलावरों के गाइड्स हैं।

हालांकि कस्‍टडी में एक सप्‍ताह गुजारने के बाद, अवान और खुर्शीद ने कहा कि वे जैश के साथ नहीं थे। वे पीओके के पीठा जंदग्रान अैर खियाना खुर्द गांवों के निवासी हैं और भारत में भटक गए थे। ये गांव एलओसी से एक घंटे की दूरी पर स्थित हैं। एनआईए अधिकारी के मुताबिक, उनके मोबाइल फोन से मिले डाटा से पता चला कि दोनों ने उरी हमले के दो दिन बाद एलओसी पार किया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 8 दिन की बच्ची के लिए रक्षक बने पीएम नरेंद्र मोदी, एयरलिफ्ट कर बचाई गई जान
2 पाकिस्‍तान के पूर्व एनएसए ने खोली अपने ही देश की पोल, कहा- 26/11 मुंबई हमला पाक आतंकी संगठन ने किया
3 अगर 30 जून 2017 तक नहीं बनवाया आधार कार्ड तो नहीं मिल पाएगा 84 योजनाओं का लाभ
यह पढ़ा क्या?
X