ताज़ा खबर
 

शादी के लिए घर लौटने वाले थे उरी हमले में शहीद संदीप, तिरंगे में लिपटी लाश आई तो फफक पड़े पिता

संदीप के पिता सोमनाथ ठोक किसान हैं। दो बेटियों की शादी करने के बाद संदीप ही इकलौता बेटा बचा था।

अगले महीने संदीप की शादी तय थी मगर होनी को यह मंजूर नहीं था।

लांस नायक संदीप सोमनाथ ठोक के घरवाले शादी की तैयारियाें में लगे थे। अगले महीने संदीप के सिर पर सेहरा सजना था, लेकिन वह उरी हमले में आतंकियों से देश की रक्षा करते-करते शहीद हो गए। लाइन ऑफ कंट्रोल (LoC) के नजदीक भारतीय सेना के ब्रिगेड हेडक्‍वार्टर्स पर चार आतंकियों ने रविवार सुबह हमला किया था। 6 बिहार रेजिमेंट के संदीप के घर जब फोन गया कि उनके बेटे का नाम शहीदों में शामिल हो गया है तो परिवार की सारी खुशियां एकपल में बिखर गईं। संदीप की शादी के लिए पिछले महीने एक रिश्‍ता आया था और बात पूरी तरह पक्‍की भी हो चुकी थी। मगर होनी को कुछ और ही मंजूर था। फार्मेसी में ग्रेजुएशन करने के बाद, 25 साल के संदीप के सामने चमकता हुआ कॅरियर था। लेकिन नासिक के खंदागली गांव में रहने वाले संदीप ने सेना में भर्ती होने का फैसला किया। वह 2014 में भारतीय सेना में शामिल हुए। उनकी पहली पोस्टिंग रणनीतिक रूप से महत्‍वपूर्ण मगर बेहद मुश्किल उरी सेक्‍टर में थी। संदीप के पिता सोमनाथ ठोक किसान हैं। दो बेटियों की शादी करने के बाद संदीप ही इकलौता बेटा बचा था। उन्‍होंने कहा- मैं भी कैसा अभागा पिता हूं कि अपने बेटे की शादी से पहले ही उसका जनाजा उठा रहा हूं।” संदीप की शहादत की खबर से पूरा गांव सदमे में है। संदीप के शव को स्‍पे शल एयरक्राफ्ट के जरिए पुणे लाया गया, उसके बाद सड़क के रास्‍ते शहीद बेटे का शव गांव आया।

रविवार (18 सितंबर) को जम्मू-कश्मीर के उरी में हुए आंतकी हमले में मारे गए 18 जवानों के परिजनों में सरकार के खिलाफ आक्रोश है। हमले में शामिल चारों आतंकी जवाबी कार्रवाई में मारे गए। हमले में 20 सैनिक घायल भी हुए हैं। शहीदों के परिजन सरकार से आंतकवाद के खिलाफ जवाबी कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं अन्य मंत्रियों ने सोमवार को इस मसले पर सेना और खुफिया एजेंसियों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की।

READ ALSO: उरी शहीद के पिता ने पूछा- ये वही सरकार है जो सिर के बदले सिर काट लाने की बात करती थी?

सूत्रों के अनुसार सैन्य अधिकारियों ने सरकार को जल्दबाजी में सैन्य कार्रवाई न करने की सलाह दी। सेना के उच्च अधिकारियों ने सरकार से कहा कि पाकिस्तानी सेना ने नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर अपनी रक्षात्मक उपाय कर लिए हैं। बैठक में हुई बातचीत के बारे में ज्यादा जानकारी बाहर नहीं आई है। सैन्य अधिकारियों ने सरकार को पाकिस्तान पर तत्काल सैन्य हमला करने के खिलाफ राय दी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App