ताज़ा खबर
 

मशहूर व्यंग्यकार व उर्दू लेखक मुजतबा हुसैन लौटाएंगे पद्मश्री पुरस्कार, बोले- देश के हालात खुश होने लायक नहीं

हास्य रस के लेखक मुजतबा हुसैन द्वितीय विश्व युद्ध व भारत-पाक विभाजन के गवाह हैं। उन्होंने कहा कि अतीत में हुईं उन घटनाओं से वर्तमान की तुलना नहीं की जा सकती है।

Author हैदराबाद | Updated: December 18, 2019 5:51 PM
hyderabadउर्दू लेखक मुजतबा हुसैन (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

नागरिकता संशोधन कानून को लेकर पूरे देश में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। ऐसे में मशहूर व्यंग्यकार और उर्दू लेखक मुजतबा हुसैन ने बुधवार (18 दिसंबर) को अपना पद्मश्री पुरस्कार लौटाने का फैसला किया। बता दें कि 87 वर्षीय हुसैन हास्य व्यंग्य पर आधारित करीब 25 किताबें लिख चुके हैं। वहीं, कई दशक से उर्दू व्यंग्य का चेहरा हैं। उन्होंने देश में लोकतांत्रिक महत्व के कम होने की बात कही। साथ ही, कहा कि आज देश के हालात खुश होने लायक नहीं हैं।

हुसैन ने कही यह बात: मुजतबा हुसैन ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, ‘‘मैंने पूरे जीवन में व्यंग्य लिखे, लेकिन मुझे लगता है कि आज मैं हंस नहीं सकता हूं। यकीनन मैं हंसने की स्थिति में नहीं हूं। गरीब आदमी की मुस्कान छिन गई है। किसान आत्महत्या कर रहे हैं। मैं देखता हूं कि आम आदमी तनाव में है। हर कोई परेशान है। ऐसे में मैं हंस नहीं सकता हूं।’’

National Hindi News 18 December Live Updates: दिन भर की बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

इन घटनाओं के गवाह हैं हुसैन: बता दें कि हास्य रस के लेखक मुजतबा हुसैन द्वितीय विश्व युद्ध व भारत-पाक विभाजन के गवाह हैं। उन्होंने कहा, ‘‘अतीत में हुईं उन घटनाओं से वर्तमान की तुलना नहीं की जा सकती है। गांधी, नेहरू, मौलाना आजाद व आंबेडकर जैसे हमारे पूर्वजों ने हमें आजादी और संविधान दिया। इसके बाद लोकतंत्र को फलने-फूलने में इतने साल लग गए, लेकिन इस वक्त इन सभी को नकार दिया गया है।’’

व्यंग्यकार ने यूं बयां किए अपने जज्बात: मुजतबा हुसैन ने अपने बेचैनी व्यक्त करते हुए कहा, ‘‘आज धर्म के नाम पर लोगों को बांटा जा रहा है। हर दूसरे कानून को लागू करने की जल्दबाजी क्यों है? यहां एकता पर कम और बांटने पर बातें ज्यादा हो रही हैं। कोई भी एकता पर बात नहीं करना चाहता। हर किसी के दिमाग में नफरत पनप रही है। हमारा देश इसे कबूल नहीं करेगा। गंगा-जमुनी तहजीब इस देश की प्रकृति है। मुझे उम्मीद है कि यह बरकरार रहेगी।’’

बाबरी विध्वंस से नहीं कर सकते बराबरी: उर्दू लेखक ने कहा कि बाबरी मस्जिद विध्वंस से आज हो रहे लोकतांत्रिक महत्व के विध्वंस की बराबरी नहीं कर सकते हैं। यह जितनी शांति व जल्दबाजी से किया जा रहा है, वह दुखद है। बता दें कि उर्दू साहित्य की हास्य शैली में योगदान के लिए मुजतबा हुसैन को 2007 में तत्कालीन राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने देश चौथा सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्मश्री दिया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 केजरीवाल ने बिना नाम लिए बीजेपी पर लगाया बड़ा आरोप, कहा- दिल्ली विधानसभा चुनाव जीत रही AAP, इसलिए हिंसा भड़का रहा विपक्ष
2 ‘BJP के लोग शादी कम करते हैं, पर गेरुआ पहन बहू-बेटियों की इज्जत लूटते हैं’, बोले हेमंत सोरेन; UP CM पर भी साधा निशाना
3 ‘लोगों को इंसान नहीं, हिंदू-मुस्लिम बनना सिखा रहे मोटा भाई’ बोला तो डॉ. कफील खान के खिलाफ केस दर्ज
ये पढ़ा क्या?
X