UPSC Result आते ही टॉपर को कंधे पर बिठा जश्न मनाने लगे थे दोस्त, आठ घंटे की पढ़ाई में पाया मुकाम, जानें- शुभम कुमार की सफलता की दास्तां

यूपीएससी की तैयारी करने के दौरान ही शुभम कुमार ने साल 2018 में अपना पहला अटेम्प्ट दिया। लेकिन वो सफल नहीं हो पाए। इसके बाद उन्होंने 2019 में अपना दूसरा प्रयास दिया और वे इंडियन डिफेंस अकाउंट सर्विस के लिए चुन लिए गए।

बिहार के रहने वाले शुभम कुमार ने अपने तीसरे प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा में पहला रैंक हासिल किया। वर्तमान में वे इंडियन डिफेंस अकाउंट सर्विसेज की ट्रेनिंग ले रहे हैं। (फोटो -एएनआई)

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने शुक्रवार को सिविल सेवा एग्जाम 2020 का फाइनल रिजल्ट घोषित कर दिया। बिहार के रहने वाले वाले शुभम कुमार ने इस परीक्षा में पहला स्थान हासिल किया। यूपीएससी परीक्षा में पहला रैंक प्राप्त करते ही शुभम कुमार के दोस्त उन्हें कंधे पर उठा कर जश्न मनाने लगे। पहला रैंक प्राप्त करने वाले शुभम कुमार वर्तमान में इंडियन डिफेंस अकाउंट सर्विसेज की ट्रेनिंग ले रहे हैं। ट्रेनिंग लेने के बावजूद उन्होंने लगातार 7 से 8 घंटे की पढाई की और यह मुकाम हासिल किया। अपने तीसरे प्रयास में पहला रैंक हासिल करने वाले शुभम कुमार की कहानी काफी प्रेरणादायक है।

मूल रूप से कटिहार के रहने वाले शुभम कुमार ने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई बिहार के विद्या विहार आवासीय स्कूल से की। इसके बाद उन्होंने इंजीनियरिंग की सबसे कठिन माने जानी वाली परीक्षा आईआईटी को पास किया और उनका दाखिला आईआईटी बॉम्बे में हो गया। आमतौर पर आईआईटी जैसे संस्थानों से पढ़ने के बाद विद्यार्थी बड़ी और अच्छी नौकरियों की तरफ जाते हैं। लेकिन शुभम ने आईआईटी की पढ़ाई पूरी करने के बाद यूपीएससी करने की ठानी।

यूपीएससी की तैयारी करने के दौरान ही उन्होंने साल 2018 में अपना पहला अटेम्प्ट दिया। लेकिन वो सफल नहीं हो पाए। इसके बाद उन्होंने 2019 में अपना दूसरा प्रयास दिया और वे इंडियन डिफेंस अकाउंट सर्विस के लिए चुन लिए गए। इंडियन डिफेंस अकाउंट सर्विस में चुने जाने के बाद भी उन्होंने यूपीएससी की तैयारी करनी नहीं छोड़ी। 

ट्रेनिंग के दौरान भी उन्होंने करीब 7-8 घंटे पढ़ाई की। शुभम के अनुसार उन्होंने यूपीएससी 2020 की तैयारी के लिए किसी भी कोचिंग का सहारा नहीं लिया था। वे दिन में 7-8 घंटे हर रोज पढ़ा करते और प्रीलिम्स की परीक्षा पास करने के बाद वे दिन में 10 घंटे तक पढ़ाई करते थे। रोजाना 8-10 घंटे पढ़ाई कर उन्होंने यह मुकाम हासिल किया। शुभम में ऐच्छिक विषय के रूप में एंथ्रोपोलॉजी विषय का चुनाव किया।

अपने बेटे की इस सफलता पर शुभम कुमार के पिता देवानंद सिंह और उनकी मां पूनम सिंह फूले नहीं समा रहे हैं। उत्तर बिहार के ग्रामीण बैंक में काम करने वाले देवानंद सिंह को जब यह पता चला कि उनके बेटे ने यूपीएससी की परीक्षा में पहला स्थान हासिल किया है,पहले तो उन्हें यकीन नहीं हुआ। लेकिन जब दोबारा से उनके बेटे ने टॉप करने की बात कही तो उनका सीना गर्व से चौड़ा हो गया।

शुभम कुमार की इस सफलता पर उन्हें बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद समेत कई लोगों ने बधाई दी। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ट्वीट कर बधाई दी। नीतीश कुमार ने ट्वीट करते हुए लिखा कि UPSC सिविल सेवा परीक्षा में प्रथम स्थान हासिल करने पर बिहार के शुभम कुमार को बधाई एवं शुभकामनाएं। उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना है। बिहार के विकास आयुक्त आमिर सुबहानी ने भी पूर्व में प्रथम स्थान प्राप्त किया था।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट