ताज़ा खबर
 

AAP प्रवक्‍ता पद से हटाई गईं अलका लाम्‍बा, रेप पीड़‍िता का नाम उजागर करने के चलते NCW से भी हुई थी छुट्टी

केजरीवाल के साथ आने के बाद अलका और मुखर हो गईं। दिल्‍ली विधानसभा चुनाव 2015 में उन्‍होंने चांदनी चौक से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की।

Author नई दिल्‍ली | June 16, 2016 5:02 PM
आम आदमी पार्टी ने उन्‍हें अपना प्रवक्‍ता बनाया। बतौर प्रवक्‍ता अलका पार्टी का प्रमुख चेहरा थीं, अब पार्टी ने उन्‍हें प्रवक्‍ता पद से हटा दिया है तो उनका कहना है कि अगर वे गलत साबित हुईं तो पछतावा होगा। (EXPRESS ARCHIVE)

पार्टी लाइन से हटकर बयान देने की वजह से आम आदमी पार्टी के प्रवक्‍ता पद से हटाई गईं अलका लाम्‍बा पहले भी विवादों में घिर चुकी हैं। दिल्‍ली के परिवहन मंत्री गोपाल राय को हटाए जाने पर अलका ने पार्टी से अलग बयान दिया था। पार्टी का कहना था कि गोपाल स्‍वास्‍थ्‍य कारणों से मंत्री पद छोड़ रहे हैं, जबक‍ि अलका ने पत्रकारों से कहा कि दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल राय को पद छोड़ने के लिए कहा है। इसी बयान की वजह से आप ने अनुशासनात्‍मक कार्रवाई करते हुए लाम्‍बा को प्रवक्‍ता पद से हटा दिया। अलका अपनी जुबान की वजह से पहले बार विवादों में नहीं घिरी हैं, इससे पहले कई बार उनका नाम गलत वजहों से सुर्खियां बटोर चुका है।

NSUI की स्‍टूडेंट लीडर के तौर पर शुरुआत करने वाली अलका ने दिल्‍ली यूनिवर्सिटी का छात्रसंघ अध्‍यध पद के चुनाव में जीत हासिल की थी। बाद में उन्‍होंने कांग्रेस का दामन थाम लिया। NSUI में रहते हुए अलका की मुलाकात रईस लोकेश कपूर से हुई। दोनों ने एक-दूसरे को डेट करना शुरू किया और फिर शादी कर ली। कुछ महीनों बाद उन्‍हें एक बेटा हुुआ। लोकेश ने अलका द्वारा बच्‍चे को समय ना दिए जाने पर सवाल उठाए। लोकेश द्वारा की गई शिकायत के अनुसार, अल्‍का उन्‍हें और उनके परिवार को प्रताड़‍ित करती थी। लोकेश ने तलाक का फैसला किया जिसके लिए अलका तुरंत तैयार हो गईं। अब अलका सिंगल हैं और अपना सारा समय राजनीति में लगा रही हैं।

READ ALSO: गोपाल राय के इस्तीफे पर पार्टी लाइन से अलग कारण बताने वाली अलका लाम्बा से छिना आप प्रवक्ता का पद

अलका लाम्‍बा को राष्‍ट्रीय महिला आयोग की उस टीम का सदस्‍य बनाया गया था जो गुवाहाटी में रेप और बलात्‍कार के मुद्दे की जांच करने गई थी। अलका ने वहां पीड़‍िता के नाम का खुलासा कर दिया, जबकि उन्‍हें कानून के बारे में अच्‍छी तरह से पता था। लेकिन इसके लिए उन्‍हें कीमत चुकानी पड़ी और वे आयोग से बाहर कर दी गईं।

दिसंबर 2013 में अलका ने कांग्रेस को अलविदा कहते हुए आम आदमी पार्टी को ज्‍वाइन कर लिया। लाम्‍बा ने इसके बाद कहा था कि कांग्रेस नेतृत्‍व उनकी बात नहीं सुन रहा था, इस वजह से उन्‍होंने पार्टी छोड़ी।

SEE PHOTOS: अरविंद केजरीवाल से संयम सीखना चाहती थीं अलका लाम्‍बा, एक पल में ले लिया था पति से तलाक का फैसला

दिल्‍ली के कश्‍मीरी गेट स्थित एक मिठाई की दुकान में अलका लाम्‍बा का ड्रामा सीसीटीवी में कैद हो गया था। चांदनी चौक में मिठाई की दुकानों के मालिकों की शिकायत पर दिल्‍ली पुलिस ने अलका के खिलाफ मामला दर्ज किया था। फुटेज में दिख रहा था कि अलका सीधे दुकान के काउंटर पर आती हैं अौर बिलिंग मशीन पर हाथ मारती हैं। जिसके बाद उनके साथ खड़ा शख्‍स मेज से सबकुछ हटा देता है। अलका ने अपने इस व्‍यवहार के लिए माफी मांगते हुए कहा था, “मैंने जो किया, वह गुस्‍से में किया। मुझे अपने नेता अरविंद केजरीवाल से संयम सीखने की जरूरत है। मैं जेल से नहीं डरती। अगर मैंने कुछ गलत किया हो तो मुझे तिहाड़ भेज दिया जाए।”

READ ALSO: ‘अब समय आ गया है जब दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को इस्तीफा दे देना चाहिए’

केजरीवाल के साथ आने के बाद अलका और मुखर हो गईं। दिल्‍ली विधानसभा चुनाव 2015 में उन्‍होंने चांदनी चौक से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। आम आदमी पार्टी ने उन्‍हें अपना प्रवक्‍ता बनाया। बतौर प्रवक्‍ता अलका पार्टी का प्रमुख चेहरा थीं, अब पार्टी ने उन्‍हें प्रवक्‍ता पद से हटा दिया है तो उनका कहना है कि अगर वे गलत साबित हुईं तो पछतावा होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App