ताज़ा खबर
 

यूपीए ने रिलायंस को दिए थे 1 लाख करोड़ के प्रोजेक्ट? अनिल अंबानी पर मनमोहन सरकार के ‘एहसानों’ की लिस्ट बना रही बीजेपी

'5 साल पहले जिस कंपनी की पहचान इलेक्ट्रिसिटी डिस्ट्रीब्यूशन के तौर पर होती थी, वो 2011 तक देश की सबसे बड़ी इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी बन गई। 16500 करोड़ रुपये के 12 प्रॉजेक्ट्स शुरू किए गए, जिससे आर-इंफ्रा देश में सबसे बड़ी प्राइवेट रोड डेवेलपर बन गई।'

अंबानी की कंपनी 2011 तक देश की सबसे बड़ी इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी बन गई।(फोटो सोर्स : Indian Express)

पीएम मोदी पर बिजनेसमैन अनिल अंबानी के लिए चौकीदारी करने के आरोप लगाने वाली कांग्रेस की एक लिस्ट तैयार हो रही है। यूपीए सरकार में अनिल अंबानी को दिए प्रोजेक्ट्स की जानकारी सबके सामने लाकर भारतीय जनता पार्टी ने करारा जवाब देने की पूरी तैयारी कर ली है। राफेल जेट डील पर मोदी सरकार को घेरने वाली कांग्रेस पर बीजेपी इसके जरिए हावी रहना चाहती है।

अनिल अंबानी पर मनमोहन सरकार के ‘एहसानों’ की बन रही लिस्ट पर अधिकारियों ने बताया, अभी तक की जांच से सामने आया है कि कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए सरकार के अंतिम 7 सालों में अनिल अंबानी के रिलायंस ग्रुप को 1 लाख करोड़ रुपये के प्रोजेक्ट्स मिले थे।

यूपीए की मेहरबानियों को जानने के लिए रोड ट्रांसपोर्ट ऐंड हाइवेज, पावर, टेलिकॉम जैसे मंत्रालयों के साथ नेशनल हाइवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया, मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन डिवेलपमेंट अथॉरिटी और दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन जैसी सरकारी इकाइयों को छाना जा रहा है। मामले पर एक अधिकारी ने बताया, “ये सभी प्रोजेक्ट्स सरकारी एजेंसियों के पास थे। हम यह देख रहे हैं कि तय प्रक्रिया का पालन किया गया था या नहीं।”

एक अन्य अधिकारी ने इसी मुद्दे पर बताया, रिलायंस कम्युनिकेशंस के लिए नियामक मंजूरी रेकॉर्ड टाइम में मिले थे। उन्होंने कहा, पांच साल में ही रिलायंस इंफास्ट्रक्चर कंपनी की किस्मत चमक कई। 5 साल पहले जिस कंपनी की पहचान इलेक्ट्रिसिटी डिस्ट्रीब्यूशन के तौर पर होती थी, वो 2011 तक देश की सबसे बड़ी इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी बन गई। 16500 करोड़ रुपये के 12 प्रॉजेक्ट्स शुरू किए गए, जिससे आर-इंफ्रा देश में सबसे बड़ी प्राइवेट रोड डेवेलपर बन गई।’

एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘अनिल अंबानी ग्रुप की 6 कंपनियों रिलायंस कम्युनिकेशंस, रिलायंस कैपिटल, रिलायंस पावर, रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर, रिलायंस नेचुरल रिसोर्सेज लिमिटेड और रिलायंस मीडियावर्क्स से जुड़ा डेटा जुटाया जा रहा है।’

बता दें कि, गुरुवार को कांग्रेस ने पीएम मोदी पर राफेल और अंबानी के बहाने हमला बोला था। राहुल गांधी ने कहा था, राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करीब 30 हजार करोड़ रुपये अनिल अंबानी की जेब में डाला है।

राहुल गांधी ने कहा था कि, पहले फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति और अब राफेल के सीनियर एक्ज़ीक्यूटिव ने और साफ कह दिया है कि राफेल सौदे के बदले दसॉल्ट को रिलायंस से डील करने को कहा गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App