ताज़ा खबर
 

VIDEO: बीहड़ में ट्रांसफर से नाराज दारोगा ने लगा दी 60 किमी की दौड़, रास्ते में हुआ बेहोश!

विजय प्रताप 3 महीने से बिठौली थाने में अनुपस्थित थे। जिसकी वजह से एसएसएपी संतोष कुमार मिश्र ने उन्हें पुलिसलाइन भेज दिया। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक गुरुवार को दारोगा की दोबारा बिठौली थाने में तैनाती कर दी गई। इससे नाराज होकर उन्होंने दौड़ लगा दी।

Author Published on: November 16, 2019 10:45 AM
50 किलोमीटर दौड़ने के बाद दारोगा बेहोश होकर गिर गया। जहां स्थानीय लोगों ने उसकी मदद की। (फोटो क्रेडिट/ ‘Headlines Special’ Video Grab)

उत्तर प्रदेश में ट्रांसफर से नाराज दारोगा ने विरोध का ऐसा तरीका अपनाया कि उसकी जान पर ही बन आई। दरअसल, दारोगा इटावा जिले के बीहड़ वाले इलाके में पोस्टिंग से नाराज था। 35 साल के विजय प्रताप को जब बिहड़ स्थित बिठौली थाने में दोबारा तैनाती का निर्देश मिला, तब उन्होंने इसके विरोध में एसएसपी बंगले से 60 किलोमीटर दूर बिठौली थाने के लिए दौड़ लगा दी। करीब 50 किलोमीटर दौड़ने के बाद उनका दम टूटने लगा और वह बेहोश होकर हनुमंतपुरा कस्बे के पास गिर गए। हुनमंतपुरा कस्बे के लोगों ने बहोशी की हालत में दारोगा को उठाया। मौके पर पुलिस भी पहुंची और उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया, जहां से हालत कराब होते देख उन्हें जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया।

जानकारी के मुताबिक विजय प्रताप 3 महीने से बिठौली थाने में अनुपस्थित थे। जिसकी वजह से एसएसएपी संतोष कुमार मिश्र ने उन्हें पुलिसलाइन भेज दिया। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक गुरुवार को दारोगा की दोबारा बिठौली थाने में तैनाती कर दी गई। इससे नाराज होकर उन्होंने दौड़ लगा दी। शुक्रवार को एसएसपी दफ्तर से दौड़ शुरू करने के बाद वह इटावा शहर, इकदिल, बकेवर, लखना और चकरनगर तक की दूरी तय की। लेकिन, बिठौली मार्ग पर हनुमंतपुरा चौराहे पर बेहोश होकर गिर गए। फिलहाल, दारोगा कि हालत स्थिर बताई जा रही है।

उधर, इस मामले में जिले के एसएसपी संतोष कुमार मिश्र ने दारोगा विजय प्रताप को विवादित रिकॉर्ड वाला अफसर बताया। उन्होंने बताया कि दारोगा ने पीएम मोदी के खिलाफ सोशल मीडिया पर अभद्र टिप्पणी भी की थी, जिसकी जांच चल रही है। सोशल मीडिया पर पार्टी विशेष के लिए प्रचार करने का भी आरोप है। वहीं, दारोगा विजय प्रताप ने न्यूज चैनल टीवी9 भारतवर्ष को बताया कि उनके खिलाफ गलत व्यवहार किया जा रहा है। उन्होंने संविधान और अधिकारों की रक्षा हेतु संदेश देने के लिए दौड़ लगाई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 केंद्र सरकार से नहीं मिली मदद, गहलोत सरकार ने मदरसों के लिए 188 लाख रुपये दिए
2 Consumer Survey जारी नहीं करेगी मोदी सरकार, 4 दशक में पहली बार उपभोक्ता खर्च में गिरावट की आई थी खबर
3 शिवसेना विधायकों में गाली-गलौच और हाथापाई की खबर, आननफानन में होटल पहुंचे आदित्य-उद्धव, MLAs ने पूछे सवाल
जस्‍ट नाउ
X