ताज़ा खबर
 

यूपी विधानसभा में जमकर हंगामा, गवर्नर को भाषण देने से सपा-बसपा विधायकों ने रोका, हाथों में पोस्टर ले की नारेबाजी

उत्तर प्रदेश विधानसभा में विपक्षी पार्टियों के विधायकों ने सीएए, एनआरसी और कानून व्यवस्था की स्थिति को लेकर जमकर हंगामा किया।

यूपी विधानसभा में जमकर हंगामा करते सपा-बसपा विधायक। (Photo: ANI)

उत्तर प्रदेश विधानसभा में गुरुवार को जमकर हंगामा हुआ। विपक्षी पार्टियां सपा और बसपा के विधायकों ने सीएए, एनआरसी और सूबे में कानून व्यवस्था की स्थिति को लेकर नारेबाजी की। राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को भाषण देने से रोका। हाथों में पोस्टर लेकर सरकार के खिलाफ विरोध जताया।

दरअसल उत्तर प्रदेश विधानसभा में गुरुवार (13 फरवरी) से बजट सत्र शुरू हो गया है। बजट सत्र शुरू होने से पहले विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान समाजवादी पार्टी, कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी के सदस्यों ने जमकर हंगामा किया। सपा सदस्यों ने विधानसभा में ‘राज्यपाल वापस जाओ’ के नारे लगाए। इसी हंगामे के बीच राज्यपाल ने अपना अभिभाषण पढ़ा।

सरकार को वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए बजट पेश करना है। बजट सत्र शुरू होने से पहले ही विपक्ष ने सरकार को विभिन्न मुद्दो पर घेरने की रणनीति तैयार कर ली थी। इसमें नए नागरिकता कानून को लेकर प्रदेश में हुई हिंसा, प्रस्तावित एनआरसी और राज्य की कानून व्यवस्था को मुख्य मुद्दा बनाया गया था। राज्य के कई हिस्सों में सीएए और एनआरसी को लेकर लंबे समय से विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। विपक्षी पार्टियां इसे पहले ही संविधान विरोधी बता चुकी है। सड़कों पर प्रदर्शन कर चुकी है। और अब सदन में सरकार को घेर रही है।

एक दिन पहले सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में अपनी पार्टी को मजबूत करने की अपील करते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने जेल में बंद नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) विरोधी प्रदर्शनकारियों के परिजनों से बुधवार को मुलाकात की। प्रियंका ने कहा कि लोकतंत्र में आवाज उठाना कोई जुल्म नहीं है ।

केन्द्र और उत्तर प्रदेश में भाजपा के नेतृत्व वाली सरकारों पर प्रियंका ने संविधान तोड़ने का प्रयास करने का आरोप मढा। उन्होंने दोनों ही सरकारों को गरीब विरोधी और जन विरोधी करार दिया। बिलरियागंज में अपनी एसयूवी की छत से जनता को संबोधित करते हुए कहा कि आपके साथ जो हुआ, वह गलत है और अन्याय है। हम सभी अन्याय के खिलाफ खड़े होंगे। केन्द्र और उत्तर प्रदेश की सरकार जन विरोधी और गरीब विरोधी है और संविधान तोड़ने के लिए काम कर रही है। उन्होंने जनता को आगाह किया कि अगर आप और हमने मिलकर इसे नहीं बचाया तो संविधान टूट जाएगा। (भाषा इनपुट के साथ)

Next Stories
1 Delhi Election Results 2020: दूसरे राज्यों के सीएम को केजरीवाल के शपथ समारोह में न्योता नहीं, दिल्ली वालों को खुला निमंत्रण
2 दिल्ली-नतीजों पर सवाल पर प्रकाश जावड़ेकर ने नहीं दिया जवाब, कहा- पार्टी दफ्तर में पूछिएगा
3 Weather forecast: पंजाब, हरियाणा में तापमान में वृद्धि, सर्दी से राहत, दिल्ली-एनसीआर में खिली धूप
ये पढ़ा क्या?
X