ताज़ा खबर
 

यूपी: सपा सरकार और गवर्नर में बढ़ा टकराव, नाइक ने स्‍पीकर से पूछा-मंत्री बनने लायक हैं आजम खान?

गर्वनर ने अपनी चिट्ठी हिंदी में लिखी है। उन्‍होंने निजी तौर पर स्‍पीकर से मिलने की इच्‍छा भी जताई है। नाइक ने इस चिट्ठी की एक प्रति सीएम अखिलेश यादव को भी भेजी है।

Author लखनऊ | March 26, 2016 8:38 AM
उत्‍तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खान। (फाइल फोटो)

यूपी के गवर्नर राम नाइक ने शुक्रवार को विधानसभा स्‍पीकर माता प्रसाद पांडे को चिट्ठी लिखकर पूछा कि क्‍या समाजवादी पार्टी नेता आजम खान संसदीय मामलों के मंत्री बनने लायक हैं? गवर्नर के मुताबिक, आजम खान की भाषा सदन की परंपरा और गरिमा के खिलाफ है।

Read Also: ‘सामना’ ने आजम खान को बताया दाऊद इब्राहिम से भी ज्‍यादा खतरनाक, ओवैसी की तारीफ

बता दें कि आठ मार्च को आजम खान ने कथित तौर पर हमला बोलते हुए कहा था कि राजभवन उस बिल को दबाकर बैठा है, जो मेयरों के खिलाफ एक्‍शन लेने की इजाजत देता है। असें‍बली में आजम खान ने कथित तौर पर कहा कि गवर्नर ‘एक खास पार्टी’ के सदस्‍यों के खिलाफ एक्‍शन नहीं लेना चाहते। वे उत्‍तर प्रदेश नगर निगम (संशोधन) बिल-2015 का जिक्र कर रहे थे। यह बिल पिछले साल राज्‍य असेंबली में पास हुआ था। मीडिया रिपोर्ट्स पर संज्ञान लेते हुए नाइक ने 9 मार्च को स्‍पीकर से सदन की कार्यवाही की ट्रांसस्‍क्र‍िप्‍ट और सीडी मांगी थी। हाल ही में ये गवर्नर को सौंपी गई। नाइक्‍ ने खान के बयान की एडिटेड कॉपी भी असेंबली की लाइब्ररी से मांगी थी।

गर्वनर ने अपनी चिट्ठी हिंदी में लिखी है। उन्‍होंने निजी तौर पर स्‍पीकर से मिलने की इच्‍छा भी जताई है। नाइक ने इस चिट्ठी की एक प्रति सीएम अखिलेश यादव को भी भेजी है। नाइक के लेटर में लिखा है, ” कार्यवाही की संपादित और असंपादित कॉपियां देखने के बाद यह साफ हो चुका है कि संसदीय मामलों के मंत्री आजम खान ने 8 मार्च 2016 को गवर्नर पर टिप्‍पणी की जो साठ लाइनों की थी। इनमें से 20 लाइनें हटा दी गई हैं। संसदीय मामलों क मंत्री के बयान का 33 फीसदी हटाया जाना यह जाहिर करता है कि उनकी भाषा संदन की गरिमा और परंपरा के अनुकूल नहीं है। क्‍या वे अपने काम में सक्षम हैं? मुझे इस मामले में चीफ मिनिस्‍टर से भी चर्चा करनी होगी।”

Read Also: आजम खान ने कहा- पाकिस्‍तान में शरीफ के घर पर दाऊद इब्राहिम से मिले नरेंद्र मोदी, मैं दूंगा सबूत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App