यूपी: योगी सरकार के मंत्री बोले- अभी पेट्रोल डीजल के दाम बहुत कम, देश की 95 प्रतिशत जनता नहीं करती इसका इस्तेमाल

उपेंद्र तिवारी के इस बयान की सोशल मीडिया पर काफी आलोचना हो रही है। ट्विटर यूजर डीके रिंपी (@Dk89348818) ने कहा कि क्या आप चीजों को अपने घर से दे रहे हो, जो मुफ्त-मुफ्त कह रहे हो।

Upendra Tiwari
पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर मंत्री द्वारा दिए गए बयान की काफी आलोचना हो रही है। (फाइल फोटो/ANI)

देशभर में पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों को लेकर जनता के बीच आक्रोश बढ़ रहा है, वहीं यूपी में योगी सरकार के एक मंत्री ने ऐसा बयान दिया है, जिससे जनता काफी गुस्से में है। दरअसल योगी सरकार में खेल युवा कल्याण व पंचायती राज मंत्री उपेंद्र तिवारी ने कहा है, ‘देश में 95% जनता पेट्रोल-डीजल का उपयोग ही नहीं करती, प्रति व्यक्ति आय के हिसाब से पेट्रोल-डीजल के दाम अभी कम हैं।’

उन्होंने ये बयान जालौन में दिया है। जिसके बाद उनका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। उन्होंने कहा कि केवल मुट्ठी भर लोग ही चार पहिया की गाड़ी चलाते हैं। उन्हें ही पेट्रोल की आवश्यकता होती है। 95 प्रतिशत लोगों को पेट्रोल की आवश्यकता नहीं होती। उन्होंने कहा कि अगर आप ईंधन की कीमत की प्रति व्यक्ति आय से तुलना करें, तो कीमतें अब भी बहुत कम हैं। डीजल-पेट्रोल के दामों में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है।

उन्होंने पेट्रोल-डीजल के मुद्दे के लिए विपक्ष को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि विपक्ष इसका प्रोपेगैंडा बना रहा है। देश में तो लोगों की आमदनी बढ़ी है, उस हिसाब से डीजल-पेट्रोल के दाम बहुत कम हैं। बता दें कि उपेंद्र तिवारी जालौन के उरई में आजादी के 75वें साल पर अमृत महोत्सव समारोह में संगोष्ठी को संबोधित करने आए थे, इसी दौरान उन्होंने ये विवादित बयान दिया। इसके अलावा उन्होंने योगी सरकार की उपलब्धियों का भी बखान किया। उन्होंने कहा कि विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है। योगी सरकार में विकास की गंगा बह रही है।

उपेंद्र तिवारी के इस बयान की सोशल मीडिया पर काफी आलोचना हो रही है। ट्विटर यूजर डीके रिंपी (@Dk89348818) ने कहा कि क्या आप चीजों को अपने घर से दे रहे हो, जो मुफ्त-मुफ्त कह रहे हो। जनता के रहमो करम पर सब लोग पल रहे हैं। किसानों के कारण भोजन खा रहे हैं। जो लोग जनता का पैसा लूटकर थोड़ा सा दे रहे हैं, वह उसे मुफ्त-मुफ्त कह रहे हैं।

न्यूज चैनल ‘न्यूज24’ ने मंत्री के बयान को ट्विटर पर पोस्ट किया है। जिस पर ट्विटर यूजर अपना गुस्सा निकाल रहे हैं और मंत्री के बयान की आलोचना कर रहे हैं।

मनोज कुमावत (@kumarmanoj85) ने कहा कि इलाज क्या घर से दिया है, ये जनता का पैसा है तो जनता पर खर्च हुआ है। जन प्रतिनिधि कब ये समझेंगे कि आप जनता के चुने हुए लोग हैं, जनता का पैसा आपको खर्च करने के लिए दिया जाता है, कोई सरकार के नुमाइंदे अपने घर से खर्च नहीं करते हैं।

यूजर mbg@gmail.com (@mbggmailcom1) ने कहा कि यह सब सुनकर ऐसा लगता है कि राजनेता चुनाव जीतने के बाद ज्यादा समय नशे में रहते हैं। इनकी जुबान पर ऐसी फिसलन होती है कि वह फिसलती रहती है। जिस देश में 70-80% किसान हों और किसानी बिना डीजल के नहीं होती हो, 2014 से पहले यह कहकर देश को सिर पर उठाया हो कि पेट्रोल-डीजल महंगा है और वह आज…’

मोहम्मद मासी (@masimohammad15) ने लिखा कि क्या मजाक है ये। 95% लोग पेट्रोल-डीजल का उपयोग नहीं करते। इनको किसी अस्पताल में भर्ती कराओ भाई।

डी राज (@DRaj11026259) ने लिखा कि भाई लोगों समझो इनकी सोच को। ये चलाएंगे देश को! समझ आ रहा होगा आपको, पानी गले तक आ चुका है। वोट सोच समझ कर दें। अच्छी शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार, ओर सरकारी व्यवस्था का सही से विकास ना होना, आज के समय की समसे बड़ी परेशानी है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
और तल्ख हो सकते हैं केंद्र व सपा सरकार के रिश्ते
अपडेट