प्रशांत भूषण ने योगी सरकार से पूछा- बीजेपी के नेता विपक्षी द्वारा शासित प्रदेशों में जाते हैं तो क्या उनके साथ होती है धक्का-मुक्की?

विपक्षी दलों द्वारा लखीमपुर जाने की कवायद को देख यूपी के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा है कि, इस घटना का उपयोग विपक्ष राजनीतिक पर्यटन और राजनीतिक प्रतिस्पर्धा के लिए कर रहा है।

Prashant Bhushan
वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण(फाइल/फोटो सोर्स: PTI)

लखीमपुर खीरी में किसानों के विरोध प्रदर्शन के दौरान रविवार को भड़की हिंसा में कुल आठ लोगों की मौत हो गई है। इस हिंसा को लेकर अब राजनीति भी शुरू हो गई है। बता दें कि तमाम विपक्षी दलों के नेता लखीमपुर जाने की कोशिश में हैं लेकिन उन्हें प्रशासन की तरफ से मंजूरी नहीं दी गई है। वहीं कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी को भी हिरासत में लिया गया है। आरोप है कि इस दौरान उनके साथ धक्का-मुक्की भी की गई।

इसको लेकर वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए यूपी में लोकतंत्र पर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा कि, “योगी आदित्यनाथ की पुलिस विपक्षी नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने से जबरन रोक रही है। पुलिस ने प्रियंका गांधी के साथ धक्का-मुक्की की। भाजपा नेता भी हमेशा विपक्ष द्वारा शासित राज्यों में जाते हैं, जहां हिंसा हुई है, क्या वहां ऐसी स्थिति होती है? क्या ये लोकतंत्र है? इसके अलावा उन्होंने एक और ट्वीट में #BJP_KillerOfFarmers हैशटैग के साथ लिखा, “विनाश काले, विपरीत बुद्धि”

यूपी पुलिस के रवैये पर प्रशांत भूषण का ट्वीट(फोटो सोर्स: ट्विटर/@pbhushan1)

प्रियंका गांधी को पुलिस ने लिया हिरासत में: बता दें कि लखीमपुर खीरी मामले में सियासी माहौल गरम होते देख कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी लखीमपुर खीरी जाने के लिए रविवार देर रात लखनऊ पहुंची थीं। यहां से प्रियंका लखीमपुर जाने वाले थीं। हालांकि प्रशासन ने उन्हें सीतापुर के हरगांव से हिरासत में ले लिया। आरोप है कि, पुलिसवालों ने रोकने के दौरान उनके साथ धक्का-मुक्की भी की। इसी को लेकर प्रशांत भूषण ने पुलिस के रवैये पर सवाल खड़े किए हैं।

प्रियंका गांधी के अलावा समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। बता दें कि अखिलेश यादव लखीमपुर खीरी पीड़ित परिवारों से मिलने जाने वाले थे। इससे पहले उन्हें घर के बाहर ही रोक लिया गया। वहीं यूपी सरकार ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंजाब के मुख्यमंत्री चन्नी को भी लखनऊ में ना उतरने देने का आदेश जारी कर दिया है।

लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर राजनीति होते देख यूपी के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा है कि, इस घटना का उपयोग विपक्ष राजनीतिक पर्यटन और राजनीतिक प्रतिस्पर्धा के लिए कर रहा है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट