ताज़ा खबर
 

यूपी: हिज्बुल मुजाहिदीन का आतंकी गिरफ्तार, गणेश चतुर्थी पर वारदात को देने वाला था अंजाम

उत्तर प्रदेश पुलिस के आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) ने हिज्बुल मुजाहिदीन के एक आतंकवादी को आज कानपुर में गिरफ्तार कर लिया।

कानपुर डीजीपी ने दी आतंकी की गिरफ्तारी की जानकारी

उत्तर प्रदेश पुलिस के आतंकवाद रोधी दस्ते (एटीएस) ने हिज्बुल मुजाहिदीन के एक आतंकवादी को आज कानपुर में गिरफ्तार कर लिया। प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओमप्रकाश सिंह ने यहां संवाददाताओं को बताया कि एटीएस और कानपुर नगर पुलिस ने चकेरी थाना क्षेत्र में असम निवासी कमर-उज-जमां नामक हिज्बुल आतंकवादी को गिरफ्तार किया है। इस अभियान में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एन आई ए) का भी सहयोग मिला। उन्होंने बताया कि शुरुआती पूछताछ में असम के जमुनामुख निवासी जमां ने स्वीकार किया है कि वह हिज्बुल मुजाहिदीन का सक्रिय सदस्य था। यह भी पता लगा है कि वह गणेश चतुर्थी के मौके पर कानपुर में किसी वारदात को अंजाम देने की फिराक में था। उसने कानपुर में एक मंदिर की रेकी भी की थी।

सिंह ने बताया कि जमां अप्रैल 2017 में ओसामा नामक व्यक्ति के साथ जम्मू-कश्मीर में किश्तवाड़ के पर्वतीय जंगलों में आतंकवाद का प्रशिक्षण लेने गया था। उन्होंने बताया कि जमां ने अप्रैल 2018 में सोशल मीडिया पर ए.के.-47 राइफल लेकर एक तस्वीर पोस्ट की थी जो खूब वायरल हुई थी। उसके बाद से ही उसकी तलाश की जा रही थी।

पुलिस महानिदेशक ने बताया कि गिरफ्तार आतंकवादी से गहन पूछताछ की जा रही है और इसमें अन्य सुरक्षा एजेंसियों की मदद भी ली जा रही है। यह पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि यह आतंकवादी कश्मीर से कब कानपुर आकर छिपा था। उसके और कौन-कौन से साथी हैं। इसके अलावा उसके निशाने पर और कौन-कौन स्थान अथवा लोग थे।
उन्होंने बताया कि जमां वर्ष 2008 से 2012 तक फिलीपीन के पास पलाउ गणराज्य में भी रह चुका है। एक बेटे के पिता जमां का विवाह वर्ष 2013 में असम में ही हुआ था। सिंह ने बताया कि आतंकवादी के पास से अभी सिर्फ उसका मोबाइल फोन मिला है जिसकी कॉल डिटेल खंगाली जा रही है।

गौरतलब है कि इससे पहले अगस्त के आखिरी सप्ताह में जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के एक कमांडर के पिता को रिहा किया था। पुलिस ने उसे दो दिन पहले गिरफ्तार किया था। हिजबुल किमांडर रियाज नाइकू के पिता असदुल्ला नाइकू को पुलवामा जिले में गिरफ्तार किया गया था। आतंकवादियों ने इसके बदले पुलिसकर्मियों के 11 रिश्तेदारों को अगवा कर लिया था। हिजबुल कमांडर रियाज नाइकू ने सोशल मीडिया पर जारी एक बयान में कहा था कि पुलिस ने आतंकवादियों को परिवारों के खिलाफ कार्रवाई करने पर मजबूर कर दिया क्योंकि पुलिस ने एक आतंकवादी के गैर-आतंकवादी रिश्तेदार को अगवा किया था।

Next Stories
1 दिल्‍ली: साउंडप्रूफ दीवारों के पीछे चल रहा मुजरा, ताश के पत्‍तों की तरह उड़ाए जाते हैं 2000 के नोट
2 जीबी रोड से भाग निकलने में सफल महिलाओं ने सुनाई आपबीती, नौकरी के झांसे में दिल्ली लाकर बेची जा रहीं बंगाल की बेटियां
3 शांतिपूर्ण हुआ मतदान, नतीजे आज बताएंगे कि इस बार डूसू किसके पास
आज का राशिफल
X