यूपी चुनावः ओवैसी के अयोध्या दौरे पर बोले योगी के मंत्री मोहसिन रजा- RSS प्रमुख के बयान का किया अनुसरण, अपने पूर्वजों की धरती पर गए AIMIM चीफ

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा था कि हिंदुओं और मुसलमानों के पुरखे एक ही थे और हर भारतीय नागरिक ‘हिंदू’ है।

UP, BJP
उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री मोहसिन रजा। (फोटो-ANI)।

यूपी चुनाव से पहले AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी के अयोध्या दौरे को लेकर योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा ने चुटकी ली है। मोहसिन रजा का कहना है कि ओवैसी मोहन भागवत की बात मानते हुए अपने पूर्वजों की धरती पर गए हैं। मंत्री ने बयान में कहा, ‘असदुद्दीन ओवैसी शायद RSS मुखिया मोहन भागवत के बयान का अनुसरण कर रहे हैं। वह अपने पूर्वजों की धरती अयोध्या गए हैं अपनी चुनावी यात्रा की शुरूआत करने। हम सब अपने पूर्वजों को याद करते हैं, इसलिए वह अयोध्या आ रहे हैं, उनका स्वागत है।’ मालूम हो कि एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी यूपी चुनाव के मद्देनजर आज अयोध्या के दौरे पर हैं। वे 8 सितंबर को सुल्तानपुर और 9 सितंबर को बाराबंकी का दौरा करेंगे।

बता दें कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत ने सोमवार को कहा था कि हिंदुओं और मुसलमानों के पुरखे एक ही थे और हर भारतीय नागरिक ‘हिंदू’ है। पुणे में ग्लोबल स्ट्रेटेजिक पॉलिसी फाउंडेशन द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि ‘समझदार’ मुस्लिम नेताओं को कट्टरपंथियों के विरुद्ध दृढ़ता से खड़ा हो जाना चाहिए।

साथ ही कहा कि भारत में अल्पसंख्यक समुदाय को किसी चीज से डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि हिंदू किसी से दुश्मनी नहीं रखते हैं। भागवत ने कहा, ‘‘ हिंदू शब्द मातृभूमि, पूर्वज और भारतीय संस्कृति के बराबर है। यह अन्य विचारों का असम्मान नहीं है। हमें मुस्लिम वर्चस्व के बारे में नहीं, बल्कि भारतीय वर्चस्व के बारे में सोचना है।’’

भागवत ने कहा कि भारत के सर्वांगीण विकास के लिए सभी को मिलकर काम करना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘ इस्लाम आक्रांताओं के साथ भारत आया। यह इतिहास है और इसे उसी रूप में बताया जाना चाहिए। समझदार मुस्लिम नेताओं को अनावश्यक मुद्दों का विरोध करना चाहिए और कट्टरपंथियों एवं चरमपंथियों के विरुद्ध दृढ़ता से खड़ा रहना चाहिए। जितना यथाशीघ्र हम यह करेंगे, उससे समाज को उतना ही कम नुकसान होगा।’’

आरएसएस प्रमुख ने कहा कि भारत बतौर महाशक्ति किसी को डराएगा नहीं। उन्होंने ‘राष्ट्र प्रथम एवं राष्ट्र सर्वोच्च’ विषयक संगोष्ठी में कहा, ‘‘हिंदू शब्द हमारी मातृभूमि, पूर्वज और संस्कृति की समृद्ध धरोहर का पर्यायवाची है तथा इस संदर्भ में हमारे लिए हर भारतीय हिंदू है, चाहे उसका धार्मिक, भाषायी व नस्लीय अभिविन्यास कुछ भी हो।’’

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट