यूपी चुनाव: अयोध्या में आप का हिंदुत्व कार्ड! माथे पर चंदन लगा संतों संग भजन में लीन हुए सिसोदिया, हनुमानगढ़ी के भी किए दर्शन

संजय सिंह ने कहा था कि उनकी पार्टी ‘‘असली बनाम फर्जी राष्ट्रवाद’’ के मुद्दे पर उत्तर प्रदेश का आगामी विधानसभा चुनाव लड़ेगी।

मनीष सिसोदिया, आम आदमी पार्टी, उत्तर प्रदेश, आप
आम आदमी पार्टी के नेता मनीष सिसोदिया (फोटो- ट्विटर- @msisodia)

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर सभी दलों की तरफ से तैयारी तेज हो गयी है। आम आदमी पार्टी की तरफ से भी उत्तराखंड, पंजाब के बाद अब उत्तर प्रदेश में भी संगठन को बढ़ाया जा रहा है। पार्टी के नेता मनीष सिसोदिया सोमवार को अयोध्या पहुंचे, सिसोदिया ने हनुमानगढ़ी जाकर दर्शन किया।

पूजा करने के बाद दिल्ली के उपमुख्यमंत्री ने कहा कि अयोध्या में रसिक पीठ, जानकी घाट, बड़ा स्थान पर साधु-संतों का आशीर्वाद लिया। भगवान श्रीराम की कृपा और संतों के आशीर्वाद से ही मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी ईमानदारी और विकास की राजनीति की नई परिभाषा बनती जा रही है। एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा कि हनुमानगढ़ी में दर्शन व हनुमान चालीसा का पाठ किया। दुर्गम काज जगत के जेते, सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते,हनुमानजी के चरणों में यूपी में आप सरकार बनाने का अवसर देने की अर्ज़ी लगाई ताकि यहां भी प्रभु राम की कृपा से शिक्षा स्वास्थ्य बिजली पानी रोज़गार पर दिल्ली की तरह काम हो सके।

इससे पहले पार्टी नेता संजय सिंह ने कहा था कि उनकी पार्टी ‘‘असली बनाम फर्जी राष्ट्रवाद’’ के मुद्दे पर उत्तर प्रदेश का आगामी विधानसभा चुनाव लड़ेगी। राज्यसभा सदस्य एवं आप के उत्तर प्रदेश प्रभारी सिंह ने रविवार को ‘भाषा’ से बातचीत में दावा किया कि उत्तर प्रदेश में उनकी पार्टी कांग्रेस के मुकाबले ज्यादा मजबूत है।

सिंह ने कहा, “विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी का मुख्य मुद्दा भाजपा का राष्ट्रवाद बनाम आम आदमी पार्टी का राष्ट्रवाद होगा। भाजपा का राष्ट्रवाद फर्जी है। वहीं, आम आदमी पार्टी का राष्ट्रवाद असली है।”आप नेता ने कहा, “भाजपा की सांप्रदायिक राजनीति की काट इसी नीति के जरिए की जा सकती है। वर्ष 2011 में लोगों ने महात्मा गांधी के रास्ते पर चलकर अन्ना हजारे की अगुवाई में भ्रष्टाचार के खिलाफ अहिंसक आंदोलन किया था। मगर 2014 के बाद से हालात पर सांप्रदायिकता हावी हो गई।”

उन्होंने कहा, ‘‘लोगों के मन में हम यह भावना उत्पन्न करेंगे कि वे खुद से यह सवाल पूछें कि नफरत की राजनीति से उन्हें क्या मिला। क्या पेट्रोल सस्ता हुआ, महंगाई कम हुई, सबको रोजगार मिल गया और क्या काला धन वापस आ गया।”

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट