ताज़ा खबर
 

हाथरस गैंगरेप: रात के अंधेरे में अंतिम संस्कार, परिवार बोला- पुलिस ने घर नहीं लाने दी लाश, लात भी मारी

Amil Bhatnagar, Jignasa Sinha: पीड़िता के परिवार ने आरोप लगाया कि पुलिस ने बीती रात जबरन उसका अंतिम संस्कार कराया।

Author Translated By Ikram नई दिल्ली | Updated: September 30, 2020 8:26 AM
UP POLICEदो सप्ताह पहले आरोपियों ने पीड़िता पर उस समय हमला किया जब वो खेतों में अपनी मां के साथ काम कर रही थी।

Amil Bhatnagar, Jignasa Sinha

उत्तर प्रदेश के हाथरस में कथित तौर पर चार सवर्ण पुरुषों द्वारा बलात्कार और हत्या की शिकार 19 वर्षीय दलित युवती का बुधवार सुबह तीन बजे के बाद अंतिम संस्कार कर दिया गया। पीड़िता के परिवार ने आरोप लगाया कि पुलिस ने बीती रात जबरन उसका अंतिम संस्कार कराया। परिवार का कहना है कि वो आखिरी बार अपनी बेटी का शव घर लाना चाहते थे, मगर ऐसा नहीं कर सके।

बुधवार रात साढ़े तीन बजे पीड़िता के भाई ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, ‘ऐसा लगता है कि मेरी बहन का अंतिम संस्कार कर दिया गया है। पुलिस हमें कुछ नहीं बता रही है। हमने उनसे विनती की कि हमें आखिरी बार उसका शव घर लाने दिया जाए, लेकिन उन्होंने हमारी एक ना मानी।’

दो सप्ताह पहले आरोपियों ने पीड़िता पर उस समय हमला किया जब वो खेतों में अपनी मां के साथ काम कर रही थी। इलाज के लिए उसे दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था जहां मंगलवार को उसकी मौत हो गई। मंगलवार-बुधवार की दरमियानी उसका शव एम्बुलेंस हाथरस स्थित गांव में पहुंचा।

बीती रात एक बजे गांव में मौजूद पीड़िता के भाईयों में से एक ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, ‘एम्बुलेंस मुख्य सड़क पर है। पुलिस हमें शव को घर के अंदर नहीं ले जाने दे रही है। वो श्मशान घाट की तरफ रुख कर चुके हैं और अभी ही हमें अंतिम संस्कार करने के लिए मजबूर कर रहे हैं। हम आधी रात में उसका अंतिम संस्कार नहीं करना चाहते। हम उसे घर ले जाना चाहते हैं।’

बिहार चुनाव 2020 Live Updates

पीड़िता के भाई ने आगे कहा कि अभी मेरे पिता और भाई भी दिल्ली से घर नहीं पहुंचे हैं। भाई ने कहा, ‘इतनी जल्दी क्या है? हमारे पिता भी अभी घर नहीं पहुंचे हैं।’

बता दें कि दो घंटे बाद वीडियो और फोटो में पीड़िता का अंतिम संस्कार होता नजर आया। उस वक्त वहां परिवार का कोई सदस्य नहीं दिखा। साढ़े तीन बजे गैंगरेप पीड़िता के भाई ने आरोप लगाया कि हमने अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया तो पुलिस आक्रामक हो गई। जब मेरे रिश्तेदारों ने देखने की कोशिश की कि पुलिस क्या रही है तो उन्होंने हमें लात मारी। हमारे एक रिश्तेदार की चूड़ियां तक तोड़ दी गईं। अब डर की वजह से हमने खुद को अंदर बंद कर लिया है। मगर वो ऐसा क्यों कर रहे हैं?

सामने आए वीडियो में पीड़िता की मां भी नजर आईं जो पुलिस अधिकारियों से शव को अंतिम बार घर ले जाने के लिए कह रही हैं। मामले में हाथरस के संयुक्त मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा ने बताया कि पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया गया है। पुलिस और प्रशासन  सुनिश्चित करेगा कि अपराधियों को इंसाफ के कटघरे में खड़ा किया जाए। सुबह 2:16 बजे हाथरस पुलिस ने ट्वीट कर बताया कि परिवार की इच्छा अनुसार पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया जाएगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बाबरी विध्वंस मामले में अदालत के फैसले से भाजपा को मिली नयी ऊर्जा
2 1992 में मुगलकालीन बाबरी विध्वंस मामले में अदालत का फैसला आज
3 स्मृति: करघे पर गांधी के सपनों को बुनता सुवालकुची
यह पढ़ा क्या?
X