ताज़ा खबर
 

यूपी में नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों के बीच गृह मंत्री शाह से मिले सीएम योगी, 90 मिनट तक चली मुलाकात

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज दोपहर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ 90 मिनट की बैठक के साथ अपने दो दिवसीय दौरे की शुरुआत की।

सीएम योगी ने गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। (एएनआई)।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज दोपहर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ 90 मिनट की बैठक के साथ अपने दो दिवसीय दौरे की शुरुआत की। वह कल पीएम मोदी और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात करेंगे।उत्तर प्रदेश की सियासत में बीते कुछ समय में बड़े घटनाक्रम देखे जा रहे हैं। एक दिन पहले कांग्रेस से नाराज चल रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री और युवा नेता जितिन प्रसाद ने भाजपा का दामन थाम लिया। अगले साने होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले इसे भाजपा के लिए फायदे और कांग्रेस के लिए एक बड़े झटके के रूप में देखा जा रहा है।

गौरतलब है कि पीएम मोदी और सीएम योगी की मुलाकात ऐसे समय में हो सकती है जब ऐसी अटकलें लगाई जा रही थीं कि भाजपा का राष्ट्रीय नेतृत्व उत्तर प्रदेश में अपनी सरकार को लेकर चिंतित है। राज्य में एक ओर जहां पार्टी के अपने विधायक और सांसद सार्वजनिक तौर पर शिकायतें कर रहे हैं। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उनके जन्मदिन पर बधाई न देना चर्चा का विषय रहा था। चर्चा गर्म थी कि भाजपा के शीर्ष नेता योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा कोविड महामारी से निपटने की आलोचना से चिंतित थे।अफवाहों के मुताबिक बदलाव पर विचार किया जा रहा है। अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। जो 2024 के लोकसभा चुनावों के लिए टोन सेट कर सकते हैं। हालांकि पार्टी के महासचिव बीएल संतोष ने इस तरह की बातों को तुरंत खारिज कर दिया था।

यहां तक कि उन्होंने योगी आदित्यनाथ और महामारी से निपटने के लिए उनकी प्रशंसा करते हुए ट्वीट किया। बीजेपी सूत्रों ने योगी आदित्यनाथ को हटाने से इनकार किया, लेकिन संकेत दिया कि कैबिनेट विस्तार की संभावना है।

पार्टी सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी के करीबी माने जाने वाले पूर्व नौकरशाह एके शर्मा को उत्तर प्रदेश सरकार में अहम भूमिका दी जा सकती है। सूत्र ने कहा कि विस्तार इस महीने हो सकता है, और नए मंत्रियों को जाति और क्षेत्रीय समीकरणों को ध्यान में रखकर चुना जाएगा।

बता दें कि बीएल संतोष और राधा मोहन सिंह ने योगी आदित्यनाथ, वरिष्ठ नेताओं, मंत्रियों और विधायकों से मुलाकात की थी। उन्होंने हाल के पंचायत चुनावों में पार्टी के खराब प्रदर्शन के कारणों का भी आकलन किया; नतीजों में बीजेपी को उसके गढ़ में भारी नुकसान पहुंचा है।

दूसरी कोविड लहर को लेकर यूपी सरकार पर विपक्ष ने तीखे हमले किए हैं। गंगा में तैरते शवों की तस्वीरों ने अंतरराष्ट्रीय सुर्खियां बटोरीं। सरकार की ओर से मीडिया पर स्थिति को गलत तरीके से पेश करने का आरोप लगाया और जोर देकर कहा कि योगी आदित्यनाथ लगातार जमीनी स्थिति की निगरानी कर रहे थे।

यूपी कोविड की दूसरी लहर से सबसे बुरी तरह प्रभावित राज्यों में से था, जिसमें सक्रिय मामले अप्रैल के अंत में तीन लाख से अधिक हो गए थे।

Next Stories
1 जेल की झाड़ी में ही छिपा था कैदी, कई दिन तलाश करती रही यूपी पुलिस
2 फ्री वैक्सीन सप्लाई पर बोले केजरीवाल, देर से आए, दुरुस्त आए, पर कहां से आएगा केंद्र के पास इतना टीका
3 मुंबई में इमारत गिरने से 11 की मौत, कई घायल; भाजपा का शिवसेना पर निशाना- दुर्घटना नहीं हत्या है
ये पढ़ा क्या?
X