ताज़ा खबर
 

एसडीएम कोर्ट में सामूहिक रूप से पढ़ी गई कुरान, Video वायरल हुआ तो डीएम ने लिया एक्शन, क्लर्क सस्पेंड

जिला मजिस्ट्रेट सिंह ने बताया कि अहमद को किसी भी धार्मिक आयोजन के लिए निलंबित नहीं किया गया, वह अनियमितताओं के आरोपों का सामना कर रहे हैं।

Author लखनऊ | Published on: December 4, 2019 9:02 AM
प्रतीकात्मक तस्वीर, फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस

उत्तर प्रदेश के औरैया जिले के एक तहसील में एक यूपी सरकार के क्लर्क (नजीर) को नवनिर्मित तहसील भवन में कुरान पढ़वाने का वीडियो सामने आने के बाद सस्पेंड कर दिया गया है। लईक अहमद (51) को सोमवार को जिला मजिस्ट्रेट अभिषेक सिंह ने निलंबित कर दिया था, जिसमें प्राथमिक जांच के बाद उन्हें बिना अनुमति तहसील परिसर में कुरानख्वानी के आयोजन के लिए जिम्मेदार पाया गया था।

‘धार्मिक आयोजन के कारण नहीं किया गया निलंबित’: दरअसल इस मामले में जिला मजिस्ट्रेट सिंह से संपर्क किया गया तो उन्होंने बताया कि अहमद को किसी भी धार्मिक आयोजन के लिए निलंबित नहीं किया गया, वह अनियमितताओं के आरोपों का सामना कर रहे हैं।

Hindi News Today, 04 December 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

कोर्ट के अंदर कुरानख्वानी का आयोजन करने पर निलंबित: बता दें कि एडीएम (न्यायिक) एम पी सिंह ने अहमद को निलंबित किया था, उन्होंने जांच का संचालन करते हुए कहा कि नाज़िर ने एसडीएम कोर्ट के अंदर कुरानख्वानी का आयोजन करने से पहले किसी से अनुमति नहीं ली थी, इसलिए उन्हें निलंबित कर दिया गया।

Hindi News Today, 03 December 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

नकारात्मक उर्जा की शिकायत मिली थी: तहसीलदार संध्या शर्मा ने बताया कि तहसील के नई बिल्डिंग के सामने कब्रिस्तान होने से लोगों ने तहसील भवन  में नकारात्मक ऊर्जा की शिकायत की थी। उन्होंने आगे बताया कि, “उसने (अहमद) अदालत में किसी को भी जानकारी देने या कुरान पढ़ने के लिए नहीं कहा। उन्होंने ऐसा इसलिए किया ताकि वह जगह तथाकथित नकारात्मक ऊर्जा से छुटकारा पा सके”।

क्या है पूरा मामला: तहसील भवन में अपर मुख्य सचिव महेश गुप्ता के आदेश से 10 दिसंबर से काम शुरू होना है। पुराने तहसील से सामान लाया जा रहा है। सोमवार (2 दिसंबर) को एसडीएम अजीतमल की कोर्ट में कारी रेहान समेत छह मौलानाओं को बुलाकर कुरान ख्वानी करा दी गई। वहां मौजूद लोगों में किसी ने उसका विडियो बनाकर सोशल मीडिया पर डाल दिया। विडियो का संज्ञान लेते हुए इटावा सांसद रामशंकर कठेरिया और क्षेत्रीय विधायक रमेश दिवाकर ने इस पर कड़ी अपत्ति जताई है। इसके बाद जिलाधिकारी ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सुप्रीम कोर्ट में आई अजब याचिका, दशहरे पर बार-बार रावण दहन को बताया ‘अशुभ प्रथा’, जजों ने दिया यह जवाब
2 कांग्रेसी विधायक ने विधानसभा परिसर में ब्लेड से काट ली कलाई, खून से लिखा नारा
3 GDP पर बयान की वजह से ट्रोल हुए BJP सांसद तो सोशल मीडिया पर पाबंदी की उठाई मांग, जानें क्या बोले निशिकांत दुबे
जस्‍ट नाउ
X