ताज़ा खबर
 

यूपीः सरकारी र‍िकॉर्ड में कोरोना से 124 मौतें, पर 400 लोगों का हुआ अंतिम संस्कार

COVID-19 की वजह से होने वाली मौतों के आधिकारिक आंकड़े और उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कोरोना मरीजों के हुए अंतिम संस्कार के आंकड़े मेल नहीं खाते हैं।

coronavirus, covid-19देश इस समय कोरोना की दूसरी लहर का सामना कर रहा है। (पीटीआई)।

COVID-19 की वजह से होने वाली मौतों के आधिकारिक आंकड़े और उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कोरोना मरीजों के हुए अंतिम संस्कार के आंकड़े मेल नहीं खाते हैं। इस बात से सवाल उठने लगे हैं कि कहीं यूपी सरकार राज्य में कोरोवायरस की स्थिति को कम करके तो नहीं बता रही है।

सरकार द्वारा पिछले सात दिनों में जारी आधिकारिक आंकड़ो में कोविड से मौत की संख्या 124 बताई गई है। हालांकि, शहर में कोविड मरीजों के अंतिम संस्कार के रिकॉर्ड के मुताबिक, वायरस के कारण मरने वाले 400 से अधिक लोगों का उसी अवधि के दौरान अंतिम संस्कार किया गया था। इसका मतलब है कि आधिकारिक रिकॉर्ड से 276 लोगों की मौतें गायब थीं। 13 अप्रैल को, सरकार द्वारा बताई गई आधिकारिक मृत्यु संख्या 18 थी, लेकिन 86 शवों का अंतिम संस्कार किया गया था। 12 अप्रैल को, 86 शवों का अंतिम संस्कार किया गया लेकिन आधिकारिक आंकड़ा 21 था। इससे एक दिन पहले, 57 शवों का अंतिम संस्कार किया गया था लेकिन आधिकारिक मौत की संख्या 31 थी। इसी तरह, 10 अप्रैल को 59 लोगों का अंतिम संस्कार किया गया लेकिन सिर्फ 23 मौतें रिपोर्ट की गईं।

लखनऊ के एक वरिष्ठ अधिकारी अमित सिंह ने बताया, “यह मेरी जानकारी में नहीं है। मैं कोविड पीड़ितों के सभी शवों का रिकॉर्ड रखता हूं, जिन्हें मैं जानता हूं … मुझे अन्य मौतों के बारे में नहीं पता है।” आधिकारिक रिकॉर्ड में विसंगतियों के बारे में पूछे जाने पर, सरकार ने कहा कि पड़ोसी जिलों और अन्य राज्यों के कोविड पीड़ितों का भी शहर में अंतिम संस्कार किया जा रहा है।

यूपी के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने बताया, ‘सरकार केवल उन लोगों के रिकॉर्ड रखती है जिन्हें अस्पतालों में भर्ती कराया जाता है या मुख्य चिकित्सा अधिकारी के साथ पंजीकृत किया जाता है।’

बता दें कि देश के अन्य हिस्सों की तरह, उत्तर प्रदेश भी संक्रमण की दूसरी तेज लहर का सामना कर रहा है। देश में सबसे अधिक आबादी वाले राज्य में बुधवार को 17,963 कोरोनो वायरस मामले दर्ज किए गए। सरकार के अनुसार इसी अवधि में 85 लोगों की बीमारी से मृत्यु हो गई।

राज्य ने मंगलवार को 18,000 से अधिक मामलों की जानकारी दी थी। इस बीच, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज कोविड पॉजिटिव पाए गए।

वहीं, इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मंगलवार को रात के कर्फ्यू को नाकाफी बताया और सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों में पूर्ण लॉकडाउन लागू करने पर विचार करने के लिए कहा।

Next Stories
1 UP Panchayat Chunav 2021: मुलायम के गढ़ में शिवपाल का जलवा, परिवार के 5 लोग जीते निर्विरोध
2 कोरोना का कहर: राजस्‍थान में छह से छह तक कर्फ्यू, हर‍िद्वार में चलता रहेगा कुंभ
3 चिल्लाती रही युवती, पिता ने अस्पताल में तोड़ा दम, अब स्वास्थ्य मंत्री बोले- मैं माफी मांगूंगा
यह पढ़ा क्या?
X