scorecardresearch

पाकिस्तान की धरती पर पल रहा आतंकवाद, दिखावे के लिए उठाए गए कदम फिर भी खुले घूमते रहे खूंखार आतंकीः अमेरिकी रिपोर्ट

रिपोर्ट में कहा गया है कि जहां लश्कर, जैश-ए-मोहम्मद, हिजबुल मुजाहिदीन, आईएसआईएस, अल-कायदा भारतीय उपमहाद्वीप में सक्रिय हैं तो वही जमात-उल-मुजाहिदीन भारत में प्रमुख आतंकी समूहों के रूप में सक्रिय है।

Pakistan terrorism, America Report
प्रतीकात्मक तस्वीर(फोटो सोर्स: Reuters/File)।

आतंकवाद को बढ़ावा देने को लेकर पाकिस्तान को दुनियाभर में संदेह की नजर से देखा जाता है। अमेरिकी विदेश विभाग ने आतंकवाद पर एक रिपोर्ट जारी की है जिसने पाकिस्तान की पोल खोल दी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान ने भारत विरोधी आतंकवादी समूहों पर लगाम लगाने के लिए कुछ कदम उठाए हैं लेकिन अफगानिस्तान और भारत को निशाना बनाने वाले कई आतंकी समूह उसकी धरती से काम कर रहे हैं।

भारतीय एजेंसियों की तारीफ: रिपोर्ट में कहा गया है कि जैश के मसूद अजहर और 26/11 के आरोपी साजिद मीर उसके देश में खुले घूमते रहते हैं। अमेरिकी विदेश विभाग की ओर से ‘कंट्री रिपोर्ट्स ऑन टेररिज्म 2020: इंडिया’ में भारतीय सुरक्षा एजेंसियों की तारीफ करते हुए कहा गया है कि आतंकी खतरों को रोकने में भारतीय सुरक्षा एजेंसियां काफी प्रभावशाली हैं। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि आतंकी संगठन ISIS से जुड़े भारतीय मूल के 66 लड़ाके थे।

आतंकवाद के खिलाफ पर्याप्त कदम नहीं: रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान ने आतंकवाद से लड़ने के लिए पर्याप्त कदम नहीं उठाए हैं। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि पाकिस्तान ने खूंखार आतंकी संगठनों जैसे मुंबई आतंकी हमले 2008 के मास्टरमाइंड JeM के मसूद अजहर व लश्कर ए तैयबा के संस्थापक साजिद मीर के खिलाफ कोई भी कदम नहीं उठाया।’

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कई आतंकवादी संगठन पाकिस्तान की धरती से संचालित किये जा रहे हैं। जिसमें, खासतौर से भारत के खिलाफ काम करने वाले लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकवादी संगठन शामिल हैं।

हालांकि अमेरिकी रिपोर्ट में अफगान शांति प्रक्रिया में पाकिस्तान के योगदान को स्वीकार किया है। इसके अलावा रिपोर्ट में जम्मू-कश्मीर और माओवादी प्रभावित क्षेत्रों में उग्रवाद गतिविधियों को स्वीकार किया गया है। कहा गया है कि भारत के पास हिंसक उग्रवाद का मुकाबला करने के लिए कोई वैचारिक नीति नहीं है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि जहां लश्कर, जैश-ए-मोहम्मद, हिजबुल मुजाहिदीन, आईएसआईएस, अल-कायदा भारतीय उपमहाद्वीप में सक्रिय हैं तो वही जमात-उल-मुजाहिदीन भारत में प्रमुख आतंकी समूहों के रूप में सक्रिय है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट