ताज़ा खबर
 

केंद्रीय मंत्री ने UN की गरीबी खत्म करने की रिपोर्ट को बताया ‘बड़ी उपलब्धि’, UPA के कार्यकाल की निकली; लोगों ने कर दिया ट्रोल

भारत में कोरोना काल के बीच लाखों की संख्या में लोगों की नौकरी गई है, इस बीच जावड़ेकर की तरफ से यह रिपोर्ट शेयर होने के बाद ट्विटर पर इसका मजाक बनाया गया।

povertyकोरोना संकट में जब भारत में रिकॉर्ड संख्या में लोग बेरोजगार हुए हैं, तब जावड़ेकर ने यूपीए के समय की ये रिपोर्ट साझा की है।

भारत में कोरोनावायरस के समय में जहां लाखों की संख्या में लोगों की नौकरी चली गई है, वहीं केंद्रीय मंत्री इस वक्त जनता को गरीबी से निकाले गए लोगों के बारे में संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट दिखा रहे हैं। हालांकि, इस मामले में भी वे इतने भाग्यशाली नहीं रहे और सोशल मीडिया पर ट्रोल्स का शिकार हो गए। इसकी एक वजह यह रही कि जिस रिपोर्ट को बड़ी उपलब्धि बताकर जावड़ेकर वाहवाही बटोरने की कोशिश कर रहे थे, वो रिपोर्ट 2005 से 2015 के बीच की निकली। इनमें से ज्यादातर समय यूपीए की सरकार ही केंद्र में थी। ऐसे में ट्विटर पर लोगों ने उन पर जम कर निशाना साधा।

दरअसल, मामला शुक्रवार का है। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने अपने ट्विटर अकाउंट से यूनाइटेड नेशंस डेवलपमेंट प्रोग्राम की एक रिपोर्ट साझा की। इसका शीर्षक था- 10 सालों में भारत में 27 करोड़ लोग गरीबी से निकाले गए हैं। जावड़ेकर ने यह रिपोर्ट शेयर करते हुए इसे बड़ा और सकारात्मक बदलाव बताया। हालांकि, सोशल मीडिया यूजर्स को यह जानने में देर नहीं लगी कि इस रिपोर्ट में 2005 से 2015 के आंकड़े दिए गए हैं। इस दौरान ज्यादातर समय कांग्रेस के नेतृत्व वाला यूपीए सत्ता में रहा।

क्या है यूएनडीपी की रिपोर्ट में?
UNDP की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के गरीबी के आंकड़ों में वित्त वर्ष 2005-06 से लेकर वित्त वर्ष 2015-16 तक दुनिया में सबसे ज्यादा कमी देखी गई। यह रिपोर्ट 75 देशों में स्टडी के बाद बनाई गई है। इसमें भारत में गरीबी के स्तर के साथ रहन-सहन के स्तर में भी सुधार की बात कही गई।

सोशल मीडिया पर क्या बोले यूजर्स?
जावड़ेकर के ट्वीट पर लोगों के कमेंट्स की भरमार लग गई। अजय सिंह नाम के एक यूजर ने लिखा, “हमें आगे की परिस्थितियों का मुकाबला करना है तो तुरंत पीयूष गोयल को वित्त मंत्री बनाना होगा, वरना सब खत्म।” शीन मैथ्यू नाम के यूजर ने एक कार्टून शेयर किया और गैस, डीजल, पेट्रोल के बढ़ते दामों को जीडीपी में बढ़ोतरी बताकर सरकार पर तंज कसा। साथ ही कहा, “कांग्रेस और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह का शुक्रिया। आखिर कोई तो जानता था कि शासन कैसे करना है।”

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सैलरी देने में ही खर्च हो रहा है पीएमओ के बजट का 70-80 फीसदी हिस्सा, दो साल में बढ़ गया खर्च
2 20 जुलाई का इतिहास: 1969 में आज ही के दिन इंसान ने पहली बार धरती से ऊपर उठकर चांद पर कदम रखा था
3 दिल्ली मेरी दिल्ली
IPL 2020: LIVE
X