ताज़ा खबर
 

संस्‍कृति मंत्री महेश शर्मा बोले-अयोध्‍या में राम मंदिर बनाने के लिए प्रतिबद्ध है केंद्र सरकार

केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने कहा, ''हमारी पार्टी और सरकार ने इस मामले पर अपनी रजामंदी दे दी है। हम राम मंदिर बनाना चाहते हैं, लेकिन या तो हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करेंगे या फिर मंदिर निर्माण पर आम राय बनाएंगे।''
राम मंदिर निर्माण का मामला दोबारा से उस वक्‍त तूल पकड़ा, जब संगमरमर के पत्‍थरों की नई खेप हाल ही में अयोध्‍या पहुंची।

केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने कहा कि उनकी सरकार अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए प्रतिबद्ध है। वह या तो सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करेगी या मंदिर निर्माण पर ‘परस्पर सहमति’ पर पहुंचेगी। शर्मा ने कहा कि राम मंदिर का जल्द निर्माण देश के लोगों का सपना है। उन्होंने यहां एक समारोह में कहा, ‘हमारी पार्टी और सरकार इस मुद्दे पर पहले ही अपना मत दे चुकी है। हम राम मंदिर बनाना चाहते हैं लेकिन या तो हम सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करेंगे या फिर मंदिर निर्माण के बारे में आम सहमति बनाएंगे। इसलिए इसमें समय लग रहा है।’

शर्मा ने कहा, ‘भाजपा राम मंदिर निर्माण के लिए प्रतिबद्ध है और देश के लोग भी चाहते हैं कि राम मंदिर की स्थापना की जानी चाहिए। लेकिन यह मुद्दा अदालत में लंबित है।’ अपनी टिप्पणियों से विवाद उठने पर शर्मा ने बाद में कहा कि पार्टी के वरिष्ठ नेता इस मुद्दे पर फैसला करेंगे। उन्होंने कहा, ‘जब तक कोई आदेश जारी होता है या परस्पर सहमति बनती है तब तक भाजपा यथास्थिति बनाए रखेगी और मैं इस विषय पर बोलने के लिए अधिकृत नहीं हूं। हमारे वरिष्ठ पार्टी नेता या सरकार फैसला करेंगे।’

मंत्री ने यह भी कहा कि अयोध्या में एक भव्य संग्रहालय निर्मित किया जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘अयोध्या में एक भव्य संग्रहालय निर्मित किया जा रहा है। केंद्र ने 170 करोड़ रुपए की लागत से रामवन गमन पथ परियोजना को मंजूरी दे दी है जो राम के आदर्शों को बताएगी।’

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने जोर दिया कि राम मंदिर मुद्दा अदालत में है। नकवी ने कहा, ‘राम मंदिर मुद्दा अदालत में है। अदालत के आदेश पर कदम उठाए जाएंगे और यह एक गैर राजनीतिक मुद्दा है।’ दादरी में गोमांस संबंधी विवाद पर केंद्रीय संस्कृति मंत्री ने कहा कि दादरी में अखलाक के घर से बरामद मांस बीफ था। ग्रेटर नोएडा के पुलिस अधीक्षक संजय सिंह ने हाल ही में कहा था कि फॉरेन्सिक रिपोर्ट में अभी इस बात का पता लगाया जाना है कि बिसहड़ा गांव में मारे गए अखलाक के घर पर रखे रेफ्रिजरेटर से लिया गया मांस का नमूना वास्तव में बकरे का था या गाय का।

अयोध्या पर शर्मा की टिप्पणियों से थोड़ा पहले ही विहिप प्रवक्ता ने कहा था कि राम मंदिर के लिए पत्थरों की पहली खेप अयोध्या आ चुकी है। विहिप के प्रवक्ता शरद शर्मा ने हाल ही में कहा था, ‘दो ट्रक पत्थर राम सेवक पुरम में उतारे गए हैं जो अयोध्या में विहिप की संपत्ति है। साथ ही राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने ‘शिला पूजन’ कर दिया है।’

दास के अनुसार, यह मोदी सरकार का संकेत है कि ‘अब’ मंदिर का निर्माण होगा। उन्होंने कहा ‘‘अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का समय आ गया है। पत्थरों की खेप अयोध्या आ चुकी है। अब पत्थरों का आना जारी रहेगा। हमें मोदी सरकार से संकेत मिला है कि अब मंदिर का निर्माण किया जाएगा।’

इसके तत्काल बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने अयोध्या में पत्थरों से भरे दो ट्रक आने के बारे में खुफिया विभाग से एक ‘गोपनीय’ रिपोर्ट मांगी थी। महानिरीक्षक (कानून व्यवस्था) ए सतीश गणेश ने कहा था, ‘राज्य सरकार ने अयोध्या में चल रही गतिविधियों के बारे में अतिरिक्त महानिदेशक (खुफिया) से गोपनीय रिपोर्ट मांगी है।’

अयोध्या मंदिर विवाद की गूंज राज्यसभा में भी सुनाई दी और कांग्रेस, बसपा और जद (एकी) ने भाजपा व आरएसएस पर उत्तर प्रदेश को 2017 में होने जा रहे विधानसभा चुनावों से पहले सांप्रदायिक आधार पर बांटने की कोशिश करने का आरोप लगाया। विपक्षी सदस्यों ने अयोध्या में मंदिर के निर्माण के लिए दो ट्रक पत्थर लाए जाने की खबरों पर चिंता जताई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. D
    Dinesh Singh
    Dec 31, 2015 at 1:50 am
    हमें पता है पर तू अभी हमें क्यों बता रहा है. कोई इलेक्शन होने वाला है क्या? सालो सारे देश का बना रखा है. जब वोट चाहिए तो जुे ना शुरू कर देते हो. चल दफा हो यहाँ से
    (0)(0)
    Reply