ताज़ा खबर
 

हाथों में संविधान उठा बोले केंद्रीय मंत्री- हर पन्ने पर भगवान श्रीराम, श्रीकृष्ण की छाप

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आगे कहा कि इस संविधान में नटराज भी हैं, गुरु गोविंद सिंह भी हैं। उन्होंने कहा कि अकबर भी हैं लेकिन औरंगजेब नहीं हैं।

केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद। (पीटीआई फाइल फोटो)

केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने संविधान की मूल प्रति के पन्ने पलटकर मीडिया को दिखाते हुए कहा कि हमारे संविधान के हरेक अध्याय पर भगवान श्री राम और भगवान श्रीकृष्ण के चित्र छपे हैं। उन्होंने कहा कि संविधान बनाने वालों ने तब इसे भारतीय संस्कृति का हिस्सा मानते हुए अंगीकार किया था लेकिन आज जब सरकार इनके बारे में बात करती है तो विपक्ष इसे साम्प्रदायिक और भगवा करार देते हैं। आज तक की एंकर अंजना ओम कश्यप के साथ खास बातचीत में रविशंकर प्रसाद ने संविधान के पन्नों को पलटते हुए दिखाया कि नीति निर्देशक तत्वों से जुड़े अध्याय के ऊपर नंदलाल बोस द्वारा बनाई रेखाचित्र है जिसमें भगवान श्रीकृष्ण अर्जुन को गीता का उपदेश दे रहे हैं।

वीडियो में दिख रहा है कि रविशंकर प्रसाद अंजना ओम कश्यप को दिखा रहे हैं कि संविधान की मूल प्रति में मौलिक अधिकारों से जुड़े अध्याय के ऊपर भगवान श्रीराम सीतामाता और लक्ष्मण के साथ अयोध्या लौट रहे हैं। उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि यह संविधान बनाने वालों ने तैयार किया है। उन्होंने तंज कसा कि अगर ये तस्वीरें आज बनतीं तो लोग कहते भारत भगवा हो रहा है। रविशंकर प्रसाद ने दिखाया कि उस संविधान पर डॉ. राजेन्द्र प्रसाद और जवाहर लाल नेहरू से लेकर अन्य सदस्यों के हस्ताक्षर हैं।

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने आगे कहा कि इस संविधान में नटराज भी हैं, गुरु गोविंद सिंह भी हैं। उन्होंने कहा कि अकबर भी हैं लेकिन औरंगजेब नहीं हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि संविधान में महात्मा गांधी और महावीर भी हैं। उन्होंने विपक्ष और लेफ्ट पर निशाना साधते हुए कहा कि लोग कन्स्टीट्यूशनल नेशनलिज्म की बात करते हैं लेकिन उन्हें नहीं पता कि बीजेपी भी उसी कन्स्टीट्यूशनल नेशनलिज्म की बात करती है मगर उन्हें यह दिखता नहीं है। जब अंजना ने पूछा कि बीजपी मुस्लिमों को मतदाता नहीं मानती और एक भी टिकट मुस्लिम उम्मीदवारों को नहीं देती तो उन्होंने इस आरोप से इनकार किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App