ताज़ा खबर
 

‘आतंक की गंगोत्री है देवबंद उलूम’, नरेंद्र मोदी के मंत्री का बयान

केंद्रीय मंत्री सीएए के समर्थन में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल होने सहारनपुर आए थे। मंत्री ने सीएए विरोधी आंदोलन को देश विरोधी आंदोलन करार दिया।

Edited By Sanjay Dubey लखनऊ | February 12, 2020 9:15 PM
केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह। (फोटोः fb/girirajsinghpage)

भाजपा नेता एवं केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने मंगलवार को यहां कहा कि देवबंद “आतंकवाद की गंगोत्री” है, जहां से मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद जैसे लोग निकलते हैं। उनके इस बयान से विवाद खड़ा हो गया है। मंत्री ने देवबंद में यह बात तब कही जब उनसे संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ हो रहे प्रदर्शनों के बारे में सवाल किया गया। उन्होंने कहा, “मैंने एक बार कहा था कि देवबंद आतंकवाद की गंगोत्री है।” मंत्री ने कहा कि “हाफिज सईद जैसे सभी बड़े आतंकवादी” वहीं (देवबंद) से निकलते हैं।

केंद्रीय मंत्री सीएए के समर्थन में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल होने सहारनपुर आए थे। मंत्री ने सीएए विरोधी आंदोलन को देश विरोधी आंदोलन करार दिया। उन्होंने दिल्ली स्थित जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्र शरजील इमाम की “भारत विरोधी” टिप्पणियों का जिक्र करते हुए कहा, “यह भारत के खिलाफ है। यह खिलाफत आंदोलन की तरह है।” केंद्रीय मंत्री के बयान पर टिप्पणी करते हुए कांग्रेस नेता एवं पूर्व विधायक इमरान मसूद ने कहा कि गिरिराज सिंह “घृणा में इस हद तक अंधे हो चुके हैं” कि उन्होंने पवित्र शब्द “गंगोत्री” का भी “अपमान” किया है।

सहारनपुर से सांसद हाजी फजलुर रहमान ने भी सिंह के बयान की निन्दा की और कहा कि देवबंद स्वतंत्रता सेनानियों की “कर्मभूमि” रहा है। उन्होंने कहा कि देवबंद के उलेमाओं ने स्वतंत्रता की खातिर अपने जीवन का बलिदान दिया और जेल गए। केंद्रीय मंत्री पर हमला बोलते हुए सांसद ने कहा कि वे लोग, जिनके नेताओं ने स्वतंत्रता संग्राम के दौरान अंग्रेजों की मदद की और हिन्दू-मुसलमानों को बांटने की कोशिश की, वे देवबंद पर आतंकवाद का आरोप लगा रहे हैं।

विवादित बयानों के लिए चर्चित गिरिराज सिंह पहले भी कई बार ऐसे बयान देते रहे हैं। कुछ दिन पहले उनका एक बयान सामने आया था, जिसमें उन्होंने स्कूलों में भगवत गीता पढ़ाए जाने की वकालत की थी। देश की संस्कृति और पारंपरिक मूल्यों का जिक्र करते हुए सिंह ने मिशनरी में बच्चों को पढ़ाने पर भी सवाल खड़े किए थे। एक कार्यक्रम के दौरान गिरिराज सिंह ने कहा ‘भगवत गीता स्कूलों में पढ़ाई जानी चाहिए, हम हमारे बच्चों को मिशनरी स्कूलों में भेजते हैं, वे IIT में जाते हैं, इंजीनियर बनते हैं, विदेश जाते हैं और उनमें से ज्यादातर बीफ खाना शुरू कर देते हैं।’

Next Stories
1 राहुल गांधी ने Coronavirus पर शेयर कर दिया भारत का गलत नक्शा! ट्रोल्स बोले- चीनी वायरस से ज्यादा तो ‘पप्पूरोना वायरस’ है
2 गुजरात दंगे के दोषी इंदौर के मंदिर में कर रहे साफ-सफाई, जमानत पर छूटने के बाद कोर्ट ने दी जिम्मेदारी
3 असम में NRC का डेटा वेबसाइट से गायब, विवाद पर बोले स्टेट कॉर्डिनेटर- आंकड़े सुरक्षित हैं
ये पढ़ा क्या?
X